Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

1940 रामगढ़ आए थे सुभाषचंद्र बोस, यहीं से गरम दल और नरम दल की शुरुआत हुई थी

रामगढ में सुभाषचंद्र बोस की 123वां जयंती बड़ी धूम धाम मनाया गया

Ramgarh/News lens:झारखंड के रामगढ में सुभाषचंद्र बोस की देशभर से अलग हट कर बेहद महत्वपूर्ण अतीत के रूप से जाना और पहचाना जाता है , क्योंकि रामगढ में हुई 1940 में कांग्रेस की महाअधिवेशन में यही से देश आज़ादी के लिये गरम दल और नरम दल की शुरुवात हुई थी ।

यह ऐतिहासिक भूमि रामगढ़ सुभाष चंद्र जी की कर्मभूमि रही है क्योंकि 1940 में कांग्रेस के महाधिवेशन में यहाँ बापू और सुभाष चंद्र के बीच मतभेद हुआ था जिसके वजह से गरम दल और नरम दल का नारा यहां पर पहली बार गुंजा था” ये बातें आज रामगढ़ की नवनिर्वाचित विधायिका ममता देवी ने उस वक्त कही जब सुभाष चंद्र बोस की 123 वीं जयंती मनाई जा रही थी

रामगढ़ के हृदय स्थली सुभाष चौक पर आज नेताजी के प्रतिमा पर लोगों ने माल्यार्पण कर उनकी 123वी जयंती मनाई। जिसमे रामगढ़ की विधायिका ममता देवी ने भी शिरकत किया। इस मौके पर नेताजी जयंती कमेटी के कई लोग शामिल थे, जिसमें शहर के प्रबुद्ध एवं बुद्धिजीवी गण भी उपस्थित हुए। सभी लोगों ने नेताजी के बताए रास्ते पर चलने का संकल्प लेते हुए देश में युवाओं से अपील की कि सुभाष चंद्र जी के बातों को प्राथमिकता देते हुए देश को आज एकता के सूत्र में पिरोने की जरूरत है। मौके पर रामगढ़ विधायिका ममता देवी ने बताया कि यह सुभाष जी की कर्मभूमि रही है साथ ही हमारा रामगढ़ ऐतिहासिक भूमि भी है क्योंकि 1940 में कांग्रेस के महाधिवेशन में बापू और सुभाष चंद्र बोस जी के बीच मतभेद हुआ था जिसके वजह से गरम दल और नरम दल का नारा यहां पर गुंजा था, मैं यहां की युवाओं से कहना चाहूंगी कि सभी एकजुटता के साथ रहें और उनके पद चिन्हों पर चलते हुए देश तथा राज्य के लिए अग्रणी भूमिका निभाए।

मौके पर उपस्थित एक सामाजिक कार्यकर्ता ने बताया कि रामगढ़ एक ऐतिहासिक धरती है। 1940 में कांग्रेस का अधिवेशन यहाँ पर हुआ था । गांधी जी सिताराममैया को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाना चाहते थे। जबकि सुभाष चंद्र जी आजादी को क्रांतिकारी तरीके से लेना चाहते थे वे अंग्रेजों से भीख में आजादी नहीं चाहते थे उनके विचारों में तालमेल नहीं रखने के कारण समझौता विरोधी सम्मेलन आयोजित हुआ । जिसमें गरम दल और नरम दल का गठन हुआ, जिसके नाम से इस सम्मेलन को जाना जाता है सम्मेलन आयोजन स्थल यहीं पर है । जिसकी अध्यक्षता स्वामी सहजानंद सरस्वती ने की थी।

गरम दल और नरम दल की पुष्टि यहां के एक बुजुर्ग सीख ने भी की और उन्होंने बताया कि यह वही स्थान है जहां से गरम दल और नरम दल का नारा लगा था यह बातें मुझे यहां एक बंगाली बाबू ने बताई थी जो सुभाष चंद्र बोस के साथ रहते थे ।

nanhe kadam hide