Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

मध्‍य प्रदेश में एक ओर शहर का बदलेगा नाम, नसरल्लागंज का नाम बदलकर भेरंदा किया जाएगा

भोपाल। होशंगाबाद (Hoshangabad) के बाद शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने मध्य प्रदेश के एक और शहर का नाम बदलने का फैसला किया है। रविवार को सीहोर जिले के नसरल्लागंज दौरे में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने घोषणा की कि नसरल्लागंज (Nasrullaganj) का नाम बदलकर भेरंदा (Bhernda) किया जाएगा। मुख्यमंत्री माता-पिता की स्मृति में आयोजित प्रेम-सुंदर मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

गौरतलब है कि यह शहर मुख्यमंत्री (Shivraj Singh Chouhan) के निर्वाचन क्षेत्र बुदनी विधानसभा में आता है। नसरल्लागंज का नाम बदलकर भेरंदा करने की मांग लंबे समय से चली आ रही थी। पिछले दिनों नर्मदा जयंती पर मुख्यमंत्री शिवराज ने होशंगाबाद का नाम नर्मदापुरम करने की घोषणा की थी। नसरल्लागंज का नाम भोपाल नवाब परिवार के सदस्य रहे नसरल्ला खां के नाम पर रखा गया था।

भोपाल की नवाब सुल्तान जहां बेगम ने जब अपने सबसे छोटे बेटे हमीदुल्ला खां को भोपाल रियासत का नवाब बनाया तो उन्होंने अपने दो बड़े बेटों को जागीर सौंपी। नसरल्ला खां को जिस शहर की जागीर सौंपी गई, उसका नाम नसरल्लागंज (Nasrullaganj) रखा गया था।

उल्‍लेखनीय है कि बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने होशंगाबाद शहर का नाम नर्मदापुरम करने का एलान किया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को होशंगाबाद स्थित सेठानी घाट पर मां नर्मदा जन्मोत्सव के मौके पर यह घोषणा की थी। उन्होंने घोषणा से पहले पत्‍नी के साथ मां नर्मदा का अभिषेक और पूजन किया था। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा था कि नर्मदा के तटों को सीमेंट कांक्रीट का जंगल नहीं बनने दिया जाएगा।