Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

मध्‍य प्रदेश में एक ओर शहर का बदलेगा नाम, नसरल्लागंज का नाम बदलकर भेरंदा किया जाएगा

भोपाल। होशंगाबाद (Hoshangabad) के बाद शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने मध्य प्रदेश के एक और शहर का नाम बदलने का फैसला किया है। रविवार को सीहोर जिले के नसरल्लागंज दौरे में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने घोषणा की कि नसरल्लागंज (Nasrullaganj) का नाम बदलकर भेरंदा (Bhernda) किया जाएगा। मुख्यमंत्री माता-पिता की स्मृति में आयोजित प्रेम-सुंदर मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

गौरतलब है कि यह शहर मुख्यमंत्री (Shivraj Singh Chouhan) के निर्वाचन क्षेत्र बुदनी विधानसभा में आता है। नसरल्लागंज का नाम बदलकर भेरंदा करने की मांग लंबे समय से चली आ रही थी। पिछले दिनों नर्मदा जयंती पर मुख्यमंत्री शिवराज ने होशंगाबाद का नाम नर्मदापुरम करने की घोषणा की थी। नसरल्लागंज का नाम भोपाल नवाब परिवार के सदस्य रहे नसरल्ला खां के नाम पर रखा गया था।

भोपाल की नवाब सुल्तान जहां बेगम ने जब अपने सबसे छोटे बेटे हमीदुल्ला खां को भोपाल रियासत का नवाब बनाया तो उन्होंने अपने दो बड़े बेटों को जागीर सौंपी। नसरल्ला खां को जिस शहर की जागीर सौंपी गई, उसका नाम नसरल्लागंज (Nasrullaganj) रखा गया था।

उल्‍लेखनीय है कि बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने होशंगाबाद शहर का नाम नर्मदापुरम करने का एलान किया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को होशंगाबाद स्थित सेठानी घाट पर मां नर्मदा जन्मोत्सव के मौके पर यह घोषणा की थी। उन्होंने घोषणा से पहले पत्‍नी के साथ मां नर्मदा का अभिषेक और पूजन किया था। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा था कि नर्मदा के तटों को सीमेंट कांक्रीट का जंगल नहीं बनने दिया जाएगा।