Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

पूर्व मंत्री के बिगड़े बोल- कंगना रनौत को बताया नाचने-गाने वाली महिला

बैतूल: किसान आंदोलन में ट्वीट कर सुर्खियों आने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत को लेकर मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने विवादित टिप्पणी की है। पूर्व सीएम कमलनाथ के कट्टर समर्थक और पूर्व पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे ने कंगना रनौत को नाचने-गाने वाली महिला बताया। वे बैतूल में कलेक्ट्रट में कंगना का विरोध करने वाले कार्यकर्ताओं पर हुए लाठीचार्ज के खिलाफ ज्ञापन सौंपने गए थे जहां उन्होंने कलेक्टर के सामने ये बयान दिया।

दरअसल, बैतूल जिला कांग्रेस ने गुरुवार को अपनी विभिन्न मांगों को लेकर मंडी से एक पद यात्रा निकालकर कलक्ट्रेट में राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में पिछले दिनों कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर हुए लाठी चार्ज के विरोध के साथ-साथ कृषि कानून और महंगाई का विरोध किया गया था। जहां पूर्व पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे ने कलेक्टर के सामने ऐक्ट्रेस कंगना रनौत के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया। विधायक ने कहा कि कंगना जैसी नाचने-गाने वाली महिला ने किसानों के स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार और पुलिस कंगना के हाथों की कठपुतली बना हुआ है। जब कांग्रेस किसानों के सम्मान में खड़ी होती है तो पुलिस उस पर लाठी चार्ज करती है।

आपको बता दें कि अभिनेत्री कंगना रनौत इन दिनों बैतूल जिले के हैंडलिंग प्लांट में अपनी फिल्म ‘धाकड़’ की शूटिंग के लिए पहुंची थी जिसका कांग्रेस ने विरोध किया था। शूटिंग रोकने पहुंचे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। इस दौरान कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं घायल हो गए थे। इसी के विरोध में पूर्व मंत्री सुखदेव पांसे कलेक्टर को ज्ञापन देने पहुंचे थे।