ग्वालियर के SP के हाथ में होगी चंबल की रेत की रक्षा की जिम्मेदारी ! जानिए प्रशासन की पूरी रणनीति…

मुरैना: ग्वालियर-चंबल संभाग में रेत के अवैध उत्खनन, परिवहन एवं भण्डारण पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए संभाग कमिश्नर आशीष सक्सेना की अध्यक्षता में आयोजित हुई बैठक में विशेष रणनीति बनाई गई है। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक चंबल मनोज शर्मा एवं ग्वालियर के अविनाश शर्मा की मौजूदगी में आयोजित हुई। इसमें संभाग कमिश्नर ने सभी कलेक्टर व पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए कि बगैर अनुमति व रॉयल्टी के अवैध रूप से जमा रेत को जब्त करने की कार्रवाई की जाए। चंबल नदी से होने वाले रेत के अवैध उत्खनन, परिवहन व भण्डारण पर सख्ती से अंकुश लगाने के उद्देश्य से ग्वालियर एसपी के नेतृत्व में संयुक्त कार्रवाई को अंजाम देने का निर्णय लिया गया।
संभाग कमिश्नर ने निर्देश दिए कि कार्रवाई के दौरान इस बात का भी ध्यान रखें कि आमजनता को रेत की आपूर्ति बाधित न हो। अर्थात रेत का वैध कारोबार प्रभावित न हो। वहीं क्षेत्रिय लोगों की मांग है कि ग्वालियर एसपी अमित सांघी की टीम में तेज तर्रार आईपीएस अनुराग सुजनिया को भी शामिल किया जाना चाहिए।

बुधवार को मोतीमहल स्थित मानसभागार में आयोजित हुई बैठक में पुलिस उप महानिरीक्षक  सचिन अतुलकर तथा ग्वालियर के कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह व पुलिस अधीक्षक श्अमित सांघी, मुरैना जिले के कलेक्टर  बी. कार्तिकेयन, भिण्ड कलेक्टर  वीरेन्द्र सिंह रावत, दतिया कलेक्टर सहित पुलिस अधीक्षक तथा वन मण्डल अधिकारी, खनिज अधिकारी व रेत ठेकेदार मौजूद थे।
बैठक में तय किया गया कि ग्वालियर एसपी अमित सांघी के निर्देशन में ग्वालियर व मुरैना जिले की पुलिस, जिला प्रशासन, वन व खनिज विभाग के अधिकारी रेत के अवैध कारोबार के खिलाफ संयुक्त रूप से कार्रवाई करेंगे। कमिश्नर ने स्पष्ट किया कि संयुक्त कार्रवाई के लिये गठित टीम में जिला प्रशासन की ओर से अपर जिला दण्डाधिकारी व अनुविभागीय दण्डाधिकारी और पुलिस की तरफ से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक स्तर तक के अधिकारी भी अनिवार्यतः शामिल किए जाएं। ग्वालियर व मुरैना जिले की संयुक्त टीमें जरूरत के मुताबिक नाके लगाकर रेत के अवैध परिवहन को रोकेंगीं। संयुक्त टीमों द्वारा रात के समय भी विशेष रूप से कार्रवाई की जायेगी। कमिश्नर सक्सेना ने समस्त कार्रवाई की वीडियोग्राफी कराने के निर्देश भी दिए।

कमिश्नर ने बैठक में यह भी निर्देश दिए कि रेत के अवैध परिवहन को रोकने के लिये बनाए गए नाकों पर जिन अधिकारी-कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है वे नियमित रूप से वहां उपस्थित रहे। जो कर्मचारी नाकों पर उपस्थित नहीं रहेंगे उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा रेत के अवैध परिवहन में लिप्त वाहनों को राजसात करने की कार्रवाई की जाए। ज्ञात हो ग्वालियर संभाग में रेत का अवैध परिवहन रोकने के लिये 33 और चंबल संभाग में 14 नाके कार्यरत हैं। ग्वालियर संभाग में रेत के अवैध कारोबार में लिप्त 15 वाहन राजसात कर लिए गए हैं।  सक्सेना ने रेत का अवैध कारोबार रोकने के लिये नाकों को सक्रिय करने के साथ-साथ उड़नदस्तों के जरिए भी नियमित रूप से छापामार कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
बैठक में संभाग कमिश्नर  सक्सेना ने स्पष्ट किया कि यदि बगैर अनुमति व रॉयल्टी के अवैध रूप से कहीं पर रेत डम्प मिला तो खनिज अधिकारी व खनिज निरीक्षक के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई होगी। साथ ही संबंधित एसडीएम, एसडीओपी व थाना प्रभारी भी इसके लिये जवाबदेह माने जायेंगे। पुलिस महानिरीक्षक अविनाश शर्मा व मनोज शर्मा ने कहा कि रेत का अवैध कारोबार रोकने के लिये उत्खनन स्थल, परिवहन के रास्तों व भण्डारण स्थल पर संयुक्त कार्रवाई करें। साथ ही टोल नाकों पर भी कार्रवाई की जा सकती है। सभी कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षकों ने बैठक में भरोसा दिलाया कि रेत के अवैध कारोबार को रोकने के लिये जिला प्रशासन व पुलिस से पूरी मदद मिलेगी।

अभियान चलाकर ट्रैक्टर्स में लिखवाएं नंबर, अतिरिक्त पटिया भी हटवाए जाएं
कमिश्नर एवं पुलिस महानिरीक्षक ने बैठक में निर्देश दिए कि अभियान चलाकर सभी बगैर नंबर वाले ट्रैक्टर्स में पंजीयन नंबर लिखवाए जाएं। साथ ही ट्रेक्टर मालिक को साफतौर पर ताकीद कर दें कि अगर आगे ट्रैक्टर पर नंबर नहीं मिले तो सख्त कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने ट्रैक्टर व डम्परों पर लगे अतिरिक्त पटिया हटवाने के निर्देश भी दिए।

Whats App