Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

बुजुर्गों से अमानवीयता मामले में 6 कर्मचारियों पर गिरी गाज, हर बार की तरह बख्शें गए उच्च अधिकारी

इंदौर: इंदौर में पिछले दिनों निगम द्वारा बुजुर्गो को पशुओं की तरह ट्रक में भर कर इंदौर की सीमा से बाहर फैंकने के मामले में जांच पूरी हो गई है। हर बार की तरह इस बार भी बड़े अधिकारियों की बजाय छोटे कर्मचारियों की बलि चढ़ी जिसमें 6 कर्मियों को दोषी मानते हुए उन्हें नौकरी से निकाला जाएगा। नगर निगम के अपर आयुक्त एस कृष्ण चैतन्य ने मंगलवार को निगम आयुक्त प्रतिभा पाल को अपनी रिपोर्ट सौंपी है।

इंदौर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल के अनुसार उन्हें अपर आयुक्त एस कृष्ण चैतन्य द्वारा जांच रिपोर्ट सौंप दी गई है। उन्होंने बताया कि जांच में नगर निगम के 6 और मास्टर कर्मी दोषी पाए गए हैं जिनकी लापरवाही और बुजुर्गों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करने के कारण नगर निगम की छवि धूमिल हुई है। इन सभी 6 मस्टर कर्मियों की सेवाएं समाप्त की जाएंगी। पाल ने बताया कि जांच में उपायुक्त सोलंकी को भी दोषी पाया गया है। उन्होंने बताया कि सोलंकी की लापरवाही के कारण बिना किसी सक्षम स्वीकृति के वृद्ध भिक्षुकों को रैन बसेरा पहुचाने के बजाए शहर से बाहर ले जाया गया। सोलंकी के खिलाफ विभागीय जांच (डीई) की जाएगी।

जांच में दोषी पाए गए 06  मस्टर कर्मचारियों के नाम
जितेंद्र तिवारी
अनिकेत करोने
राज परमार
गजानंद महेश्वरी
राजेश चौहान
सुनील सुरागे

हालांकि इस कार्रवाई को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं। क्योंकि हर बार की तरह छोटे कर्मचारियों की बलि चढ़ाई गई। क्योंकि बड़े अधिकारियों के आदेश के बिना कोई भी छोटा कर्मचारी ऐसे अपनी मर्जी से नहीं कर सकता।

आपको बता दें पिछले दिनों इंदौर नगरनिगम की कारगुजारी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ था जिसमें आश्रम में रह रहे बुजुर्गों को जानपरों की तरह गाड़ियों में भरकर इंदौर की सीमा से बाहर किया जा रहा था। इस मामले को लेकर मध्यप्रदेश ही नहीं पूरे देश मे इंदौर की बदनामी हुई थी इसके बाद खूब हंगामा भी हुआ था साथ ही कांग्रेस ने धरने प्रदर्शन तक कर अपना विरोध भी दर्ज करवाया था और सम्भायुक्त को ज्ञापन देकर नगर निगम के बड़े अधिकारियों पर कार्यवाही करने के साथ ही इंदौर कलेक्टर पर भी कार्यवाही करने की बात कही थी।