Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

अधिकारियों की बड़ी लापरवाही आई सामने, एक भी फ्रंट लाइन वर्कर्र को नहीं लग पाई कोरोना वैक्सीन

ग्वालियर: कोरोना वैक्सीन को लेकर भले ही केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार गंभीर नजर आ रही है, लेकिन अधिकारियों पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा।

इसका उदाहरण ग्वालियर जिले में सोमवार को देखने को मिला। वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में अधिकारियों की लापरवाही के कारण जयारोग्य अस्पताल के 7 बूथों पर 940 वर्करों में से टीका नहीं लग सका है।

यानी सोमवार को जयारोग्य अस्पताल में टीकाकरण शून्य रहा। टीका न लग पाने का कारण ये है कि विभाग के पास पहुंची लिस्ट में सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स का मोबाइल नंबर एक ही लिखा था।

इस कारण न तो उनके पास मैसेज आया और ना ही वेरिफिकेशन के समय नंबर मिल पाया। जाहिर है कि अधिकारी वैक्सीन को लेकर गंभीर नहीं हैं। बता दें कि सोमवार से वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू हो गया है।

इसमें 19500 फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगना है। फ्रंट लाइन वर्कर्स में नगर निगम कर्मचारी, पुलिस व अन्य फोर्स के जवान शामिल हैं। सोमवार को पहले दिन 5000 फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाने का टारगेट रखा गया था।