Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

पाकिस्‍तानी सेना के प्रमुख कमर जावेद बाजवा की बदली भाषा, कश्मीर मसले पर कही अब यह बात

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान से लेकर उनके कई मंत्री बेशक समय-समय पर जहर उगलते हों, लेकिन उनके सेना प्रमुख के तेवर अचानक बेहद नरम हो गए हैं। पाक सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने अब कहा है कि जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को शांति और गरिमापूर्ण तरीके से सुलझाना चाहिए। पाकिस्तान के साथ तनाव के उच्च स्तर पर चल रहे संबंधों के बीच जनरल बाजवा ने कहा कि पाक एक शांतिपूर्ण देश है और उसने क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर शांति के लिए हमेशा त्याग किया है।

हैरानी करने वाली यह भाषा जनरल बाजवा ने वायुसेना एकेडमी की ग्रेजुएशन सेरेमनी के अवसर पर बोली। वे यहीं नहीं रुके,उन्होंने आगे कहा कि इस्लामाबाद एक-दूसरे का सम्मान करने और शांति के प्रतिबद्ध है। यह समय सभी क्षेत्रों में शांति के विस्तार का है। इसके साथ ही पाक सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान की शांति की इच्छा को किसी के भी द्वारा कमजोरी के रूप में नहीं देखना चाहिए। हमारी सेना किसी भी खतरे का सामना करने में सक्षम है।

पाकिस्तानी सेना प्रमुख का बयान दोनों देशों में चरम पर चल रहे तनाव के दौरान रुख में बदलाव का संकेत है। इसके साथ ही भारत पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि पाकिस्तान को अपनी कथनी-करनी में फर्क करना होगा। बातचीत और आतंक दोनों एक साथ नहीं चल सकते। पाकिस्तान को पहले अपनी धरती से हो रही आतंकवादी गतिविधियों को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने होंगे।

उल्‍लेखनीय है कि पाकिस्तान में विपक्ष के निशाने पर आए प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर के स्वायत्त दर्जे की बहाली तक भारत के साथ किसी भी तरह की बातचीत की संभावना नहीं है। डिजिटल मीडिया के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत में इमरान खान ने कहा था कि भारत को छोड़कर किसी भी दूसरे के साथ पाकिस्तान के खराब संबंध नहीं हैं। उन्‍होंने भारत पर पाकिस्तान को अस्थिर करने की कोशिशें करने के आरोप भी लगाए थे।