Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

पाकिस्‍तानी सेना के प्रमुख कमर जावेद बाजवा की बदली भाषा, कश्मीर मसले पर कही अब यह बात

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान खान से लेकर उनके कई मंत्री बेशक समय-समय पर जहर उगलते हों, लेकिन उनके सेना प्रमुख के तेवर अचानक बेहद नरम हो गए हैं। पाक सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने अब कहा है कि जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को शांति और गरिमापूर्ण तरीके से सुलझाना चाहिए। पाकिस्तान के साथ तनाव के उच्च स्तर पर चल रहे संबंधों के बीच जनरल बाजवा ने कहा कि पाक एक शांतिपूर्ण देश है और उसने क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर शांति के लिए हमेशा त्याग किया है।

हैरानी करने वाली यह भाषा जनरल बाजवा ने वायुसेना एकेडमी की ग्रेजुएशन सेरेमनी के अवसर पर बोली। वे यहीं नहीं रुके,उन्होंने आगे कहा कि इस्लामाबाद एक-दूसरे का सम्मान करने और शांति के प्रतिबद्ध है। यह समय सभी क्षेत्रों में शांति के विस्तार का है। इसके साथ ही पाक सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान की शांति की इच्छा को किसी के भी द्वारा कमजोरी के रूप में नहीं देखना चाहिए। हमारी सेना किसी भी खतरे का सामना करने में सक्षम है।

पाकिस्तानी सेना प्रमुख का बयान दोनों देशों में चरम पर चल रहे तनाव के दौरान रुख में बदलाव का संकेत है। इसके साथ ही भारत पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि पाकिस्तान को अपनी कथनी-करनी में फर्क करना होगा। बातचीत और आतंक दोनों एक साथ नहीं चल सकते। पाकिस्तान को पहले अपनी धरती से हो रही आतंकवादी गतिविधियों को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने होंगे।

उल्‍लेखनीय है कि पाकिस्तान में विपक्ष के निशाने पर आए प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर के स्वायत्त दर्जे की बहाली तक भारत के साथ किसी भी तरह की बातचीत की संभावना नहीं है। डिजिटल मीडिया के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत में इमरान खान ने कहा था कि भारत को छोड़कर किसी भी दूसरे के साथ पाकिस्तान के खराब संबंध नहीं हैं। उन्‍होंने भारत पर पाकिस्तान को अस्थिर करने की कोशिशें करने के आरोप भी लगाए थे।