कर्ज से मुक्ति पाने, बीमा की रकम हथियाने किसान ने रची खुद की हत्या की साजिश

कटनी। रीठी थाना के मझगवां निवासी एक किसान ने 50 हजार के कर्ज से मुक्ति पाने और डेढ़ लाख रुपये का बीमा हथियाने के लिए अपनी हत्या की साजिश रच डाली। 35 वर्षीय रामफल पुत्र शिवलाल पटेल सोमवार को खेत में काम करने गया और घर नहीं लौटा। मंगलवार को उसके कमरे में पलंग के आसपास खून मिला। बुधवार को पुलिस ने लापता किसान को मैहर (सतना) से खोज निकाला। रीठी टीआइ रोहित यादव ने बताया कि किसान रामफल पटेल कर्ज से परेशान था। इसलिए अपनी हत्या का षड़यंत्र रचा और खेत में बने कमरे में मुर्गे का खून फैलाकर सतना चला गया।

रामफल ने पुलिस को बताया खाद और लोहे की सरिया खरीदने के कारण उस पर दो- तीन व्यापारियों का करीब 50 हजार का कर्ज था। उसने करीब पौने दो साल पहले श्रीराम फाइनेंस कंपनी से डेढ़ लाख का बीमा कराया था। कर्ज से बचने और बीमा पाने के लिए उसने अपनी हत्या की साजिश रची और कमरे में मुर्गे का खून फैलाकर चला गया।

 टीआइ रोहित यादव ने बताया कि रामफल के गायब होने के बाद हत्या का संदेह जताया जा रहा था। फिर भी लाश नहीं मिलने के कारण हत्या की पुष्टि नहीं हो पाई। शक होने पर पुलिस ने साइबर सेल से मदद ली। पता चला रामफल सतना गया है। पुलिस टीम ने मैहर स्थित अरकंडी आश्रम से उसे पक़़ड लिया।

Whats App