Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

3 इडियट्स के रेंचो बने सुनील, वीडियो कॉलिंग में डॉक्टर से बात कर ट्रेन में करवा दी महिला की डिलिवरी

सागर: आपने अब तक सिर्फ 3 ईडियट्स फिल्म में ही वर्चुअल डिलीवरी करते हुए आमिर खान यानी रैंचो को देखा है। लेकिन आज हम आपको रियल लाइफ के रैंचो यानी सुनील प्रजापति से मिलवाने जा रहे हैं। जिन्होंने ट्रेन में एक गर्भवती महिला की सफल वर्चुअली डिलेवरी कराई। सुनील के इस काम की केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर तारीफ की है।

दरअसल सुनील प्रजापति दिल्ली के नार्दन रेलवे हॉस्पिटल में लैब टेक्नीशियन के पद पर कार्यरत हैं। शनिवार को सुनील प्रजापति दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्टेशन से सागर आने के लिए ट्रेन में सवार हुए। इस बीच मथुरा रेलवे स्टेशन में जैसे ही ट्रेन पहुंची तो सामने बैठी गर्भवती महिला को दर्द शुरू हुआ। महिला को दर्द ज्यादा बढ़ने पर सुनील ने उसकी मदद करने डॉक्टर सुपर्णा सेन को कॉल किया। डॉक्टर सुपर्णा सेन के गाइडेंस में ही महिला की वीडियो कॉल के जरिये सुरक्षित डिलीवरी कराई गई।

PunjabKesari,  Sagar Railway Station, Hazrat Nizamuddin, Three Idiots, Aamir Khan, Rancho, Birth in Train, Virtual Delivery

वीडियो कॉल में जिस तरह से डॉक्टर गाइड कर रहे थे, ठीक उसी तरह से सुनील ने उसे ऑपरेट किया। हालांकि डिलीवरी के समय कुछ सामान ना मिलने पर थोड़ी दिक्कतें जरूर हुई। लेकिन डिलवरी सुरक्षित रही। सुरक्षित डिलीवरी कराने के बाद सुनील प्रजापति ने महिला को सकुशल मथुरा के डिस्ट्रिक्ट अस्पताल में भर्ती कराया। अब महिला और बच्चे दोनों स्वस्थ हैं। वहीं सुनील का कहना है कि वीडियो कॉल से डिलीवरी कराते समय उन्हें जरा भी डर नहीं लगा। सुनील ने कहा कि वह पल भावुक करने वाला था। लेकिन जो भी हो, कोरोना के खौफ के बीच भी कठिन समय में डर हावी नहीं हो पाया, वहीं अब महिला व बच्चा दोनों सुरक्षित हैं।