Logo
ब्रेकिंग
Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l

अब बिना फिंगरप्रिंट स्टार्ट नहीं हो पाएगी आपकी कार, चोरी रोकने के लिए छात्र ने बनाई अनोखी डिवाइस

आगर: कहते है कि कुछ कर गुजरने की ख्वाहिश हो तो आप बड़ा से बड़ा काम कर सकते हो और इसमें उम्र भी मायने नहीं रखती। ऐसा ही कुछ नया कर दिखाया है आगर मालवा जिले के एक युवा छात्र ने। आगर में रहने वाले मात्र 16 साल के युवा ने कार चोरी न हो इसके लिए कार में एक ऐसी डिवाइस बनाकर लगाई है जिससे अंजान व्यक्ति कार को स्टार्ट नहीं कर सकेंगे केवल जिन लोगों के फिंगर सेव होंगे वहीं इसे स्टार्ट कर चला सकेंगे।

आगर मालवा जिले के 10वीं पास कर पॉलिटेक्निक कालेज में इलेक्ट्रॉनिक्स फर्स्ट सेमेस्टर के छात्र विनय जायसवाल जब एंड्राइड फ़ोन चलाते थे तो उन्होंने सोचा कि जब फोन फिंगरप्रिंट से चल सकता है तो गाड़ी क्यों नहीं। इसी को ध्यान में रखकर विनय जायसवाल ने मात्र 3 हजार रुपए खर्च करके डिवाइस तैयार की जिसका प्रयोग पहले बाइक पर किया। जब प्रयोग सफल हुआ तो विनय ने उसके पिता अरुण जायसवाल की कार में यह डिवाइस लगा दी। कार स्टार्ट करने के लिए चाबी लगाने के साथ ही डिवाइस पर फिंगर रखनी होती है, फिंगर लगते ही कार स्टार्ट होती है। जिन लोगों के फिंगर सेव नहीं होते है वे कार को स्टार्ट नहीं कर सकते।

क्षेत्र में लगातार वाहन चोरी की घटनाओं को सुनकर विनय सोचते थे कि आखिर इन्हें कैसे रोका जाए। फिर खाली समय में बैठकर इंटरनेट की मदद से अलग अलग चीजों को जोड़कर करीब एक महीने में यह डिवाइस बना दी। अमूमन इस तरह की फिंगर प्रिंट की डिवाइस में काफी खर्च आता है और यह केवल महंगी गाड़ियों में ही आती है। लेकिन इसे विनय ने काफ़ी कम खर्च में बना दिया। इसके लिए उन्हें उनकी स्कूल की अटल टिंकिंग लैब से बहुत मदद मिली। विनय इस डिवाइस को और मोडिफाइड कर इसमें जीपीएस भी लगाने की कोशिश कर रहा है। इसके अलावा उसकी कोशिश है कि इसे कोई तार से स्पार्क कर स्टार्ट करने की कोशिश करेगा तो कार मालिक के मोबाइल में मैसेज पहुंच जाएगा। इसके साथ ही इस डिवाइस को कार के गेट में लगाने की भी विनय की योजना है जिससे कोई भी अपरिचित व्यक्ति कार को खोल भी न सके।

विनय के पिता अरुण जिले की एक ग्राम पंचायत में सचिव के पद पर कार्यरत है ओर हमेशा अपने बेटे को प्रोत्साहित करते रहते है। इस डिवाइस को बनाने के पहले कोरोना काल में विनय ने सामान पहुंचाने के लिए ड्रोन, ऑटोमेटिक सैनेटाइज मशीन व ऑटोमेटिक डस्टबिन भी बना चुका है।