Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

पूर्व मंत्री बोले- लड़कियां 15 की उम्र में बच्चे पैदा करने लायक हो जाती है, बाल संरक्षण आयोग ने भेजा

भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने लड़कियों की शादी को लेकर एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान के बयान लड़कियों की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 करने के विचार का विरोध करते हुए एक अनोखा तर्क दे डाला। सज्जन सिंह वर्मा का मानना है कि लड़कियां 15 साल की उम्र में ही प्रजनन के लायक हो जाती हैं और 18 साल में परिपक्व हो जाती हैं तो शादी की उम्र 21 साल क्यों हो? इस बयान को लेकर अब सज्जन सिंह वर्मा घिरते नजर आ रहे हैं। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने मामले में संज्ञान में लेते हुए नोटिस जारी किया है। आयोग ने वर्मा को 2 दिन में स्पष्टीकरण देने को कहा है।

PunjabKesari

दरअसल, सज्जन सिंह वर्मा ने बुधवार को भोपाल प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम शिवराज सिंह पर निशाना साधा और डॉक्टरों का हवाला देते हुए कहा कि लड़कियों 15 साल में ही बच्चे पैदा कर सकती। उन्होंने कहा, ”शादी की उम्र 18 साल है तो कौन सा बड़ा वैज्ञानिक या डॉक्टर हो गया शिवराज की शादी की उम्र 21 करेगा। डॉक्टरों की रिपोर्ट है यह कि बच्चियां 15 साल की उम्र में प्रजनन के उपयुक्त हो जाती हैं, तो 18 साल में परिपक्व हो गई बच्ची, यह माना जाता है वैज्ञानिकों से, उसे रहना चाहिए। 21 साल का लॉजिक आप इनको बता दो शिवराज की तरफ से।”

आपको बता दें कि सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इससे पहले मंगलवार को एक कार्यक्रम में कहा था कि देश में लड़कियों की शादी की उम्र 21 साल होनी चाहिए। इसे मुद्दा बनाकर बहस करनी चाहिए। वे महिला अपराध के उन्मूलन में समाज की भागीदारी के लिए जागरुकता अभियान के कार्यक्रम में शामिल हुए थे और कहा कि जब लड़के के लिए शादी की उम्र 21 साल है, तो फिर लड़की के परिपक्वता की उम्र भी 21 साल होनी चाहिए।