Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

आखिर 24 मौतों का जिम्मेदार कौन? जहरीली शराब ने किसी का भाई, पति और किसी का छीना पिता

मुरैना: मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में जहरीली शराब पीने से मरने वालों का संख्या बढ़कर 24 हो गई है। बुधवार रात में छैरा गांव में तीन और मौतें हो गई। लगातार बढ़ रहे मौतों के आंकड़े ने मुरैना जिले को हिला कर रख दिया है। बड़ा सवाल यह है कि आखिर इस घटना के लिए कौन जिम्मेदार है। वो जो जिन्होंने शराब पी या वो जो हर साल शराब नई शराब नीति लेकर आते हैं लेकिन बिकती वहीं जहरीली शराब और टैक्स के नाम पर सरकार का खजाना भरता है। हालांकि इस मामले को लेकर शिवराज सरकार ने सख्त रुख अपनाया हुआ है। बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए मुरैना के कलेक्टर और एसपी को हटाने के निर्देश दिए थे। वहीं शाम होते होते शिवराज सिंह मुरैना बागचीनी थाने के अंतर्गत जिस बीट में जहरीली शराब का निर्माण हो रहा था उस बीट के सभी पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया।

मुरैना में मौत का तांडव रविवार देर रात शुरु हुआ जब छैरा-मानपुर में 52 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गई। सोमवार को परिजन ने हार्टअटैक समझकर उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया, लेकिन उसके बाद एक-एक कर गांव के 28 से अधिक लोगों को उल्टियां शुरू हुई तो गांववाले उन्हें जिला अस्पताल ले गए। इनमें दो लोगों की इलाज से पहले, सात की जिला अस्पताल में और तीन की ग्वालियर में मौत हो गई और अब यह आंकड़ा बढ़कर 24 हो गया है। अभी भी कई लोग अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती हैं।

पहले दिन एक साथ 12 लोगों की मौत ने मुरैना जिले को हिला कर रख दिया। जहरीली शराब पीने से किसी का सुहाग उजाड़ गया तो किसी के सिर से बाप का साया उठ गया। किसी बहन से उसका भाई छीन लिया। जहरीली शराब ने जिंदगियां क्या छीनी लोगों के दिल दहल गए और गुस्सा सातवां आसमान छूने लगा। 12 लोगों के शव देखकर यह गुस्सा प्रशासन के खिलाफ फूट पड़ा। ग्रामीणों की मांग थी कि मृतकों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये ओर एक एक नौकरी व दोषियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज हो।

स्थानीय लोगों की माने तो लंबे समय से अवैध शराब की फैक्ट्री पुलिस की सांठ-गांठ से चल रही है। पुलिस वालों से लेकर ऊपर अधिकारियों तक कई बार शिकायत की गई पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसका नतीजा आज इन लोगों की मौत के रूप में सामने आया हैं। जो अब धीरे धीरे बढ़कर 24 हो गई है। गांव में 3-4 दिनों से इलाके में मातम पसरा हुआ है।