Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

कृषि मंत्री तोमर ने कहा- किसानों को जिस प्राविधान पर आपत्ति है, उस पर हम चर्चा को तैयार

भोपाल। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिला मुख्यालय पर मीडिया से चर्चा में कहा कि ‘हमने किसान यूनियन से बार-बार आग्रह किया है कि आपको नए कृषि कानून के जिस प्राविधान पर आपत्ति है, हमें बताए व चर्चा करें। हम चर्चा के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। 15 जनवरी को वार्ता का अगला दौर है। मुझे आशा है कि उस दिन किसान यूनियन के लोग चर्चा को आगे बढ़ाएंगे। उम्मीद है हम समाधान करने में सफल हो सकेंगे।’

तोमर ने कहा- सरकार ने विचार करने का प्रस्ताव किसान यूनियन के समक्ष रखा

तोमर सोमवार शाम राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी के निवास पर उनकी माता जी के निधन पर शोक व्यक्त करने पहुंचे थे। उन्होंने कहा- किसानों की बात को समझकर जो आवश्यक संशोधन किए जा सकते हैं, उन पर सरकार ने विचार करने का प्रस्ताव किसान यूनियन के समक्ष रखा है।

टिप्पणी करना ठीक नहीं

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह ने कहा कि जब कानून पर चर्चा होगी तभी तो यह पता चलेगा कि कौन सा प्रावधान किसानों के खिलाफ है। अदालत में जब चर्चा चल रही है, तो उस पर टिप्पणी करना ठीक नहीं है।

तोमर ने कहा- सुप्रीम कोर्ट का फैसला सर्वोपरि

सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कोर्ट मंगलवार को फिर सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट का फैसला सर्वोपरि है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने किसानों के साथ कई दौर की बातचीत की और कोशिश की कि रास्ता निकल आए। नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि जो किसान यूनियन का मत है, उस दृष्टि से कई प्रस्ताव भी उनको दिए गए, लेकिन उनके मन में कानून वापस लेना ही है, इसलिए किसी फैसले पर हम नहीं पहुंच पाए।