Logo
ब्रेकिंग
रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी पुलिस अधीक्षक के कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप, चार पुलिस कर्मी Suspend रामगढ़ छावनी फुटबॉल मैदान में लगा हस्तशिल्प मेला अब सिर्फ 06फ़रवरी तक l असामाजिक तत्वों ने देवी देवताओं की मूर्ति को किया क्षतिग्रस्त, गुस्साए ग्रामीणों ने किया सड़क जाम l

थर्ड जेंडर को पहचान देने वाला देश का पहला राज्य बना MP, ये खास आईडी कार्ड जारी

भोपाल: नए साल पर राजधानी भोपाल में ट्रांसजेंडर के लिए नई पहल की गई है। देश में पहली बार अब थर्ड जेंडर के पास अपना पहचान पत्र होगा। अब तक ट्रांसजेंडर के पास व्यक्तिगत आईडी नहीं होती थी उनके पास आधार, वोटर कार्ड आदि दस्तावेज होते हैं। लेकिन कलेक्टर अविनाश लवानिया ने ट्रांसजेंडर को अलग आईडी कार्ड मुहैया करवा कर मध्य प्रदेश को देश का ऐसा पहला राज्य बना दिया जहां अब थर्ड जेंडर के पास अपना आईडी कार्ड होगा। कलेक्टर अविनाश लवानिया ने शुक्रवार को दो ट्रांसजेंडर्स को कार्ड जारी किए हैं।

भोपाल जिले में 167 थर्डजेंडर हैं जो वोटिंग लिस्ट में हैं। इनकी संख्या और ज्यादा भी हो सकती है, जिन्हें यह आईडी कार्ड जारी किया गया है, उनमें संजना सिंह और जुबेर सैयद जूली शामिल हैं। वहीं पहचान पत्र बनने पर थर्ड जेंडर संजना सिंह राजपूत ने खुशी जाहिर की है। संजना का कहना है कि अभी तक हमारे समुदाय के लिए कोई भी पहचान पत्र नहीं होता था, जिसकी वजह से कई मामलों में हम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता था। इस अधिकार को पाने के लिए 16 साल तक लड़ाई लड़नी पड़ी है। लेकिन अब जब सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से हमें पहचान पत्र दिए है तो अच्छा लग रहा है।

थर्ड जैंडर कम्यूनिटी को पहचान दिलाने के लिए भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया की यह अनोखी पहल है। उन्होंने ट्रासजेंडर को आधिकारिक रूप से पहचान पत्र जारी किए है। लेकिन अब भी समुदाय के लोगों में इसकी जागरूकता नहीं है जिसको लेकर आगामी भविष्य में कार्य करने की आवश्यकता है।