Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

वैक्सीनेशन के बाद मजदूर की मौत पर घिरी सरकार, दिग्विजय बोले- आखिर गरीबों पर क्यों हो रहे ट्रायल

भोपाल: कोरोना वैक्सीनेशन के बाद भोपाल के टीलाजमालपुरा निवासी दीपक मरावी की मौते के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति भी गरमा गई है। युवक की मौत की सूचना मिलने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह मृतक के परिजनों से मिलने पहुंचे। उन्होंने मृतक की पत्नि व तीनों बच्चों को ढांढस बंधाया। उन्होंने मृतक के सबसे छोटे जिसके दिल में छेद है सारा खर्चा व्यक्तिगत तौर पर उठाने की बात कही। वहीं सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आखिरकार गरीबों पर ही क्यों वैक्सीन ट्रायल किए जा रहे हैं।

इस दौरान मृतक की पत्नी ने शासन प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि बिना जानकारी के उनके पति को टीका लगाया गया। मराबी की पत्नी ने बताया कि उनके पति को कोई भी बीमारी नहीं थी, टीका लगने से ही उनकी मौत हुई है और उनकी मृत्यु के बाद शासन प्रशासन ने आज तक सुध नहीं ली।

दिग्विजय सिंह ने मृतक के परिजनों को ढांढस बंधाते हुए कहा कि वे उनके परिवार की मदद करेंगे और स्व. दीपक मराबी के छोटे बेटे पवन के दिल मे छेद है जिसका वे व्यक्तिगत रूप से इलाज करवाएंगे।

मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि भारत बॉयोटेक के टीके कॉवैक्सीन के परीक्षण के बाद ही दीपक मराबी की मौत हुई है। इस दौरान दिग्विजय चिकित्सा शिक्षा मंत्री की निंदा की जिन्होंने सामाजिक कार्यकर्ता रचना को टुकड़े टुकड़े गैंग का सदस्य बताया जिन्होंने इस मामले को उठाया। उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर गरीब लोगों पर ही क्यों टीके के परीक्षण किए जा रहे हैं और फिर परीक्षण के बाद उनपर कोई निगरानी नहीं रखी जा रही? तो फिर परीक्षण क्यों किया गया? उन्होंने कहा कि वे पीढ़ित परिवार के साथ खड़े हैं और उनकी हरसंभव मदद करेंगे।