Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

वैक्सीनेशन के बाद मजदूर की मौत पर घिरी सरकार, दिग्विजय बोले- आखिर गरीबों पर क्यों हो रहे ट्रायल

भोपाल: कोरोना वैक्सीनेशन के बाद भोपाल के टीलाजमालपुरा निवासी दीपक मरावी की मौते के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति भी गरमा गई है। युवक की मौत की सूचना मिलने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह मृतक के परिजनों से मिलने पहुंचे। उन्होंने मृतक की पत्नि व तीनों बच्चों को ढांढस बंधाया। उन्होंने मृतक के सबसे छोटे जिसके दिल में छेद है सारा खर्चा व्यक्तिगत तौर पर उठाने की बात कही। वहीं सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आखिरकार गरीबों पर ही क्यों वैक्सीन ट्रायल किए जा रहे हैं।

इस दौरान मृतक की पत्नी ने शासन प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि बिना जानकारी के उनके पति को टीका लगाया गया। मराबी की पत्नी ने बताया कि उनके पति को कोई भी बीमारी नहीं थी, टीका लगने से ही उनकी मौत हुई है और उनकी मृत्यु के बाद शासन प्रशासन ने आज तक सुध नहीं ली।

दिग्विजय सिंह ने मृतक के परिजनों को ढांढस बंधाते हुए कहा कि वे उनके परिवार की मदद करेंगे और स्व. दीपक मराबी के छोटे बेटे पवन के दिल मे छेद है जिसका वे व्यक्तिगत रूप से इलाज करवाएंगे।

मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि भारत बॉयोटेक के टीके कॉवैक्सीन के परीक्षण के बाद ही दीपक मराबी की मौत हुई है। इस दौरान दिग्विजय चिकित्सा शिक्षा मंत्री की निंदा की जिन्होंने सामाजिक कार्यकर्ता रचना को टुकड़े टुकड़े गैंग का सदस्य बताया जिन्होंने इस मामले को उठाया। उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर गरीब लोगों पर ही क्यों टीके के परीक्षण किए जा रहे हैं और फिर परीक्षण के बाद उनपर कोई निगरानी नहीं रखी जा रही? तो फिर परीक्षण क्यों किया गया? उन्होंने कहा कि वे पीढ़ित परिवार के साथ खड़े हैं और उनकी हरसंभव मदद करेंगे।