Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

खतरे की घंटी साबित हो रहा बर्ड फ्लू! कौए, बगुलों के बाद अब कुत्तों की मौत

खरगोन: इंसानों में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का कहर अभी थमा भी नहीं था कि पक्षियों में बर्ड फ्लू के संक्रमण ने हड़कंप मचा दिया है। राजस्थान, हिमाचल, केरल के साथ-साथ अब मध्य प्रदेश में भी बर्ड फ्लू ने कोहराम मचाना शुरु कर दिया है। राज्य में अब तक 500 से ज्यादा कौवों की मौत के बाद अब कई जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई है। वहीं खरगोन जिले से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां दो कुत्ते मृत पाए गए। इन कुत्तों में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। बताया जा रहा है कि संभवत मृत बगुले खाने से इन कुत्तों की मौत हुई है।

मामला जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर दूर कसरावद इलाके का है। जहां प्राचीन जंगलेश्वर महादेव मंदिर के पहाड़ी क्षेत्र पर बरगद के पेड़ के आस पास कई कौओं, शिकरा और बगुलों की मौत हो गई। जिनमें गुरुवार देर बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई। इसके बाद जिला को अलर्ट दिया गया और कलेक्टर के निर्देश के चलते पूरे जिले के डॉक्टर्स को पशु पक्षियों पर निगाह रखने के निर्देश दिए गए।

शाम को रिपोर्ट आने से पहले जिला मुख्यालय स्थित जिला पंचायत भवन के पीछे दो बगुलों की मौत हो गई। वहीं मृत बगुले वहां घूम रहे कुत्तों ने खा लिए जिससे उनकी भी मौत हो गई। पशु चिकित्सा विभाग को सूचना मिलने पर डॉक्टर्स की टीम घटनास्थल पर पहुंची। मौके पर पहुंची मृत बगुला और कुत्तों का सैंपल लेकर भोपाल लैब भेजे गए। जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। इससे आसपास के रहने वाले लोगों में भय का माहौल था। ग्रामीणों ने पहले ही बर्ड फ्लू की आशंका जताई थी।