केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव ने जलछाजन परियोजनाओं का किया निरीक्षण #रामगढ़

जलछाजन परियोजनाओं का किया निरीक्षण परिसदन रामगढ़ में उपायुक्त एवं उप विकास आयुक्त के साथ की मुलाकात

रामगढ़: ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार के भूमि संसाधन विभाग के सचिव श्री अजय तिर्की ने रविवार को रामगढ़ जिले का दौरा किया।
इस दौरान सबसे पूर्व झारखंड राज्य जल छाजन मिशन के राज्य स्तरीय तकनीकी विशेषज्ञ डॉक्टर बी के प्रसाद एवं श्री नारायण मिश्र ने सचिव महोदय का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया।

सचिव महोदय के द्वारा मांडू प्रखंड अंतर्गत तापीन पंचायत में वन प्रमंडल रामगढ़ द्वारा संचालित जल छाजन योजनाओं का निरीक्षण किया किया। इस दौरान वन क्षेत्र पदाधिकारी श्री केदार राम ने सचिव महोदय का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया। तापीन पंचायत में सचिव महोदय ने चेक डैम, तालाब, ट्रेंच कम बंड सहित अन्य परियोजनाओं का निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को कार्य शुरू होने के पूर्व संबंधित क्षेत्र की जियो टैग फोटो एवं कार्य संपन्न होने के पश्चात योजना की जियो टैग फोटो संधारित करने का निर्देश दिया।

इस दौरान सचिव महोदय का तापीन पंचायत के ग्रामीणों द्वारा ढोल नगाड़ो एवं शाल ओढ़ाकर भव्य स्वागत किया गया। सचिव महोदय ने सभी ग्रामीणों से जल छाजन योजनाओं के माध्यम से उन्हें मिल रहे लाभ की जानकारी लेते हुए उन्हें बढ़-चढ़कर सरकार की योजनाओं में हिस्सा लेने एवं उससे लाभ प्राप्त करने की अपील की। इसके साथ ही उन्होंने सभी से कहा कि भारत सरकार द्वारा जल छाजन योजनाओं में बेहतरीन कार्य करने वाले क्षेत्रों तथा ग्रामीणों को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया जाता है।

 

तापीन पंचायत के निरीक्षण के उपरांत परिसदन रामगढ़ में उपायुक्त श्री संदीप सिंह एवं उपविकास आयुक्त श्री नागेंद्र कुमार सिन्हा ने सचिव महोदय को पुष्प गुच्छ देते हुए शिष्टाचार मुलाकात की। इसके साथ ही उन्होंने जिले में चल रहे विभिन्न योजनाओं एवं अन्य विकास कार्यों की जानकारी भी सचिव महोदय को दी।

दौरे के दूसरे चरण में सचिव महोदय ने गोला प्रखंड अंतर्गत रोला ग्राम का दौरा किया जहां ग्रामीण विकास ट्रस्ट के प्रतिनिधियों ने सचिव महोदय एवं उप विकास आयुक्त सहित अन्य अधिकारियों का स्वागत किया। इस दौरान सचिव महोदय ने समिति के सदस्यों से जल छाजन परियोजनाओं के तहत हुए कार्यों की जानकारी ली एवं ग्रामीणों से भी योजनाओं के पूर्ण होने के बाद उनकी जिंदगी में आए बदलावों की जानकारी ली। लोगों को संबोधित करते हुए सचिव महोदय ने कहा कि आज के दौर में जब हम देश के अलग-अलग हिस्सों से जल की कमी से संबंधित समस्याओं को सुनते हैं तो ऐसे समय में हमारा यही प्रयास है कि किस प्रकार से जल संचयन किया जाए और खास तौर पर वर्षा के माध्यम से प्राप्त होने वाले जल का सुउपयोग किया जाए। इसी उद्देश्य से ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा देश के अलग-अलग जिलों में जल छाजन योजनाएं चलाई जा रही हैं जिसके माध्यम से ना केवल मिट्टी एवं जल संरक्षण किया जा रहा है बल्कि कृषि, मत्स्य सहित अन्य क्षेत्रों में जल का उपयोग कर लोगों को लाभ पहुंचाने का भी कार्य किया जा रहा है।

मौके पर जल छाजन प्रकोष्ठ सह आकड़ा केंद्र रामगढ़ की जिला तकनीकी विशेषज्ञ सुश्री फ़ौजिया रहमान एवं लेखापाल श्री ओम प्रकाश शर्मा द्वारा सचिव महोदय, उप विकास आयुक्त सहित अन्य वरीय अधिकारियों को जल संरक्षण हेतु बनाए जा रहे तालाब, डोभा, ट्रेंच कम बंड, वॉटर अब्जॉर्बिग टैंक, गली प्लग, लूज़ बोल्डर चेक डैम के तहत हुए कार्यो की विस्तार से जानकारी दी गयी। इसके साथ ही उन्होंने सभी अधिकारियों को बताया कि हाल ही में पूर्ण हुए तालाब एवं डोभा के लाभुकों के बीच मत्स्य जीरो का वितरण किया गया है। इसके साथ ही लाभुकों को मत्स्य पालन के माध्यम से लाभ प्राप्त करने के संबंध में जानकारी दी गई है।

निरीक्षण के दौरान सभी अधिकारियों ने रोला अंतर्गत जलछाजन समिति के प्रतिनिधियों के साथ चल रही योजनाओं के संबंध में गहन चर्चा करते हुए कई महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश दिये। इस दौरान उन्होंने योजनाओं के पूर्ण होने के बाद लाभुकों को मिल रही लाभ की भी जानकारी ली।
निरीक्षण के दौरान उन्होंने जल छाजन प्रकोष्ठ का आंकड़ा केंद्र रामगढ़ के अधिकारियों को नियमित अंतराल पर क्षेत्र भ्रमण कर चल रही योजनाओं का जायजा लेने एवं ससमय योजनाओं को पूर्ण करने हेतु आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया।

मौके पर सचिव महोदय एवं उप विकास आयुक्त ने पौधारोपण करते हुए पर्यावरण की रक्षा का भी संदेश दिया।
उपरोक्त के अलावे दौरे के दौरान सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी रामगढ़, जल छाजन विकास दल एनआरएम एक्सपर्ट श्री धीरज कुमार राम, परियोजना क्रियान्वयन एजेंसी के प्रतिनिधि, ग्रामीण विकास ट्रस्ट गोला के प्रतिनिधि एवं जलछाजन विकास दल के सदस्य,जल छाजन समिति के सचिव, अध्यक्ष अन्य सदस्यों सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

Whats App