Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

घोड़ी पर दलित की बारात देखकर भड़के दबगों ने कर दिया पथराव, कई घायल

मंदसौर: सरकारी कागजों में भले ही अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति को लेकर समानता देने के दावे किए जाते हैं। संविधान में भी समानता के अधिकार का जिक्र किया गया है। लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। आज भी हमारे समाज में कुछ ऐसे लोग हैं जो छुआछूत और जात-पात में विश्वास रखते हैं और छोटी जाति के लोगों को अछूत समझते हैं। इसका उदाहरण मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में देखने को मिला जब गांव के दबंगों ने एक दलित की बारात इस वजह से रोक दी कि वह घोड़ी पर ब्याहने जा रहा था।

मामला नारायणगढ़ थाना क्षेत्र के बूढ़ा चौकी का बताया जा रहा है। पीड़ित परिवार का आरोप है कि मंगलवार को उनके बेटे की बारात निकली थी। इस दौरान कुछ लोग वहां पहुंच गए और पथराव करना शुरू कर दिए और बारात रोकने की कोशिश की। जिसमें दो लोग घायल भी हो गए। जानकारी मिलते ही पुलिस की एक टीम मौके पर पहुंच गई और दोनों पक्षों को शांत करवाया। मामले की गहराई को समझते हुए पुलिस ने 6 नामजद  आरोपियों ओर 3 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।

आपको बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पहले भी कई ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। कुछ दिनों पहले सुवासरा थाना क्षेत्र में दबंगों ने एक दलित की बारात रोक दी थी। हालांकि तब पुलिस ने मौके पर पहुंच कर स्थिति को संभाल लिया था और बारात को निकलवाया था।