Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

आपत्ति एवं प्रमाण देने के बाद भी मतदाता सूची से नहीं हटाए फर्जी नाम, नोटिस जारी

इंदौर। आपत्ति एवं प्रमाण देने के बावजूद मतदाता सूची से फर्जी नाम नहीं हटाने को लेकर प्रदेश कांग्रेस महासचिव ने निर्वाचन अधिकारी को कानूनी नोटिस भेजा है। आरोप है कि नगर निगम चुनाव के लिए जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा अंतिम प्रकाशित की गई मतदाता सूची में लगभग 50 हजार नाम फर्जी है। इनके संबंध में आपत्तियां और प्रमाण प्रस्तुत करने के बावजूद इन्हें मतदाता सूची से हटाया नहीं गया। इसे लेकर प्रदेश कांग्रेस महासचिव दिलीप कौशल की ओर से वरिष्ठ अभिभाषक मनोहर दलाल ने जिला निर्वाचन अधिकारी को नोटिस भेजा है। कहा है कि तीन दिन में मतदाता सूची से फर्जी नाम नहीं हटाए गए तो वे इस संबंध में उच्च न्यायालय में याचिका दायर करेंगे।

इंदौर जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा इंदौर नगर निगम के चुनाव के लिए मतदाता सूची का प्रारूप प्रकाशित कर दावे आपत्तियां बुलाई गई थीं। कौशल ने मप्र शासन की सर्वे रिपोर्ट सहित 500 पेज के प्रमाण सहित आपत्तियां प्रस्तुत की थीं। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर कौशल ने आरोप लगाया था कि इंदौर नगर निगम क्षेत्र बताए गए 13502 परिवार नगर निगम क्षेत्र में निवास ही नहीं करते हैं लेकिन उनके नाम 2020 की अंतिम मतदाता सूची में शामिल किए गए हैं। शिकायत की जांच का जिम्मा विधानसभावार नियुक्त रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों को सौपा गया था। उनसे कहा गया था कि वे जांच कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करें जो अब तक लंबित है।

फर्जी मतदाताओं के नाम हटाने के लिए भारत निर्वाचन आयोग और मप्र निर्वाचन पदाधिकारी ने निर्वाचन आयोग को निर्देशित भी किया इसके वाद भी फर्जी नाम मतदाता सूची से हटाए नहीं गए। इस पर वरिष्ठ अभिभाषक दलाल ने कौशल की ओर से कानूनी नोटिस भेजा है। दलाल का कहना है कि अब तक निर्वाचन प्रक्रिया प्रारंभ नहीं हुई है। ऐसी स्थिति में मामला उच्च न्यायालय के समक्ष जाता है तो निगम चुनाव लंबित हो सकते हैं।