Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

‘जब आजम खान की भैंस ढूंढ सकते हो तो मेरी क्यों नहीं’, भैंस चोरी के बाद पुलिस के गले पड़ा किसान

भोपाल: उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री आज़म खान के मंत्री रहते समय उनकी भैंसें गुम जाने पर उनको ढूंढने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस जुट गई थी और उनको ढूंढ निकाला था। भैंस चोरी की घटना के बाद लोगों ने सोशल मीडिया में चुटकियां ली थी। सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक और ट्विटर पर पर लोगों ने खूब टिप्पणियां की थी, और मजाकिया तस्वीरें और कार्टून शेयर किए गए थे। अब ऐसा ही कुछ मामला मध्य प्रदेश में भी सामने आया है। हालांकि यहां पर पुलिस द्वारा भैंसे ढूंढने नही बल्कि एक किसान की गुम हुई भैंसो को किसी और देने का आरोप लग रहा है। जिसके बाद पुलिस सवालों के कटघरे में खड़ी दिखाई दे रही है। फरियादी ने इसकी शिकायत SP और DIG से की है।

दरअसल, ग्राम परसोरिया निवासी अनिल यादव खेती किसानी करते हैं। करीब सात महीने पहले गांव के बाहर चरते समय उनकी एक भैंस और एक पड़िया गुम गई। तलाश करने के बाद भी जब पता नहीं चला तो उन्होंने ललरिया चौकी में शिकायत की। कुछ दिन पहले पता चला कि उनके जानवर ग्राम उमरिया में बांधे गए हैं तो वह गांव पहुंचे। ग्रामीणों ने बताया कि दो सिपाही आए और मालिक का पता चल गया है, इसलिए वह भैंस और पड़िया को वापस ले जा रहे हैं।

सरपंच के पति ने गांव में बंधवाए थे मवेशी
ग्राम पंचायत नरेला दामोदर की सरपंच के पति हनीफ पटेल ने बताया कि कुछ समय पहले मवेशियों के मिलने पर गांव में बंधवाया था, लेकिन दो दिन बाद ही उन्हें खोल दिया गया। इसके बाद मवेशी दूसरे गांव उमरिया पहुंचे तो उन्हें वहां बंधवाया गया। लावारिस मिलने वाले मवेशियों को बंधवा दिया जाता है, ताकि जब मालिक मिले तो उसे वापस कर दिया जाए। कुछ दिन पहले पता चला कि दो सिपाही मवेशियों को ले गए थे, लेकिन किसान को नहीं दिए।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से की शिकायत
कुछ दिन पहले अनिल को मवेशियों का पता चला तो वह उमरिया पहुंचा। गांव वालों से जानकारी मिलने के बाद उसने हनीफ से मुलाकात की और पुलिस से की गई शिकायत के बारे में बताया। हनीफ उसे लेकर चौकी पहुंचे, तो पुलिस ने कोई सटीक जवाब नहीं दिया। बैरसिया विधायक से मुलाकात के बाद किसान ने SP नार्थ और DIG को मामले की शिकायत करते हुए भैंस और पड़िया वापस करवाने की गुहार लगाई है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और  विधायक के संज्ञान में आया मामला
मवेशियों की शिकायत लेकर पीड़ित किसान ने बैरसिया विधायक विष्णु खत्री से मुलाकात की। विधायक ने एसपी और डीआईजी को मामले से अवगत कराया। डीआईजी ने कहा कि शिकायत भिजवा दें, मैं मामले की जांच करवा लूंगा। विधायक ने इसके साथ ही टीआई को भी बुलाकर केस की जानकारी देकर मामले को हल करने को कहा