Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

11 दिसंबर रामगढ़ के सभी अस्पताल के ओपीडी बंद :- आइ एम ए

आयुर्वेदिक चिकित्सकों को प्रैक्टिस और सर्जरी का अधिकार देने पर IMA का विरोध मार्च आज इंडियन मेडिसिन सेंट्रल काउंसिल के द्वारा आयुर्वेदिक चिकित्सकों को मॉडर्न प्रैक्टिस सर्जरी ऑपरेशन सहित दातों की चिकित्सा का अधिकार दिए जाने का इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डॉक्टरों ने पुराना सदर अस्पताल में विरोध जताया ।

केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर आई एम ए रामगढ़ के डॉक्टरों ने सरकार के इस निर्णय के विरोध में आंदोलन लगातार जारी है जी हाँ आईएमए अध्यक्ष डॉ एस पी सिंह सचिव डॉ ठाकुर मृत्युंजय कुमार ने बताया कि डॉक्टरों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि सरकार की नीति के विरोध में हमलोग लगातार आंदोलन करेंगे।रामगढ़ शहर के पुराना सदर अस्पताल में कोविड 19 को ध्यान में रखते हुवे सोशल डिस्टेंस के साथ बिरोध किया गया।

आज सुबह से ही ओपीडी बंद हैं इस दौरान सभी सरकारी और गैर सरकारी अस्पताल ओपीडी बंद रहेंगे सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं बाधित नहीं होगी ,प्रदर्शन करते हुए डॉ ठाकुर मृत्युंजय ने बताया कि हम सभी पुराने चिकित्सा पद्धति का सम्मान करते हैं लेकिन हम सबों को आधुनिक चिकित्सा पद्धति में अतिक्रमण का विरोध है आम जनता के स्वास्थ्य के साथ किसी प्रकार का खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं करेगी जिस शिक्षा पद्धति की जानकारी है और डिग्री प्राप्त है सरकार उसे उचित शिक्षा पद्धति से उपचार के अधिकार दे इंडियन मेडिसिन सेंट्रल काउंसिल को अपना निर्णय वापस लेना होगा अन्यथा आई एम ए और चिकित्सा से जुड़े सभी संस्था आंदोलन के लिए मजबूर होंगे जिसकी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होगी।।।