Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के बैनर तले सुभाष चौक से थाना चौक तक रामगढ़ के डॉक्टरों ने पैदल विरोध मार्च निकाला।

सीसीआईएम सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंटरनल मेडिसिन ने एक नोटिफिकेशन जारी किया है जिसमें आयुर्वेदिक चिकित्सको पोस्टग्रेजुएट डिग्री के बाद 58 विभिन्न सर्जरी करने को अधिकृत किया जाना है इंडियन मेडिकल एसोसिएशकोई आयुर्वेदिक डॉक्टर शल्य तंत्र विशेषज्ञ की डिग्री लेकर 58 प्रकार के मॉडर्न मेडिसिन की सर्जरी करने को अधिकृत हो

इस mixopathy के विरोध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने राष्ट्रव्यापी आंदोलन की रूपरेखा तैयार की हैl मेडिकल शिक्षा ,प्रैक्टिस, पब्लिक हेल्थ और रिसर्च पर विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों को एक दूसरों से इंटीग्रेट कर रही है यानी एक चिकित्सा पद्धति का दूसरी पद्धति में बुरा प्रभाव होगी जो आम जनता के स्वास्थ्य पर सीधे पड़ने वाली है।जो मिक्सर डॉक्टर पैदा होंगे ,जो किसी लोगो के स्वास्थ्य का देखभाल करने में असमर्थ होंगे l इंडियन मेडिकल एसोसिएशन किसी भी निबंधित चिकित्सा पद्धति का सम्मान करती है,

डॉ विरोध करती है तो सिर्फ मिक्सर पैथ्री काl

हमें जिस चिकित्सा पद्धति की गहन जानकारी है, जिसकी विशेषज्ञता प्राप्त है, हम उसे सही तरह से कर पाएंगेl मानव शरीर प्रयोग के लिए नहीं बना हैl जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ नहीं होना चाहिए lजिस चिकित्सक ने मॉडर्न मेडिसिन की पढ़ाई ही नहीं की, वह अचानक से आयुर्वेदिक पद्धति से पोस्टग्रेजुएट डिग्री लेकर अचानक 58 विभिन्न सर्जरी करने को अधिकृत हो जाए, यह जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है, ।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन इसका विरोध करती है और मांग करती है की सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंटरनल मेडिसिन के नोटिफिकेशन को वापस लिया जाए और नीति आयोग के चारों कमेटी को वापस लिया जाए तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं से, शिक्षाविदों से, एन जी ओ से ,रोटरी क्लब, लायंस क्लब, रेड क्रॉस सोसाइटी ,अधिवक्ता संघ एवं विभिन्न संगठनों से आग्रह करती है कि अपने स्तर से मिक्सो पैथी की समीक्षा करें और इसके दुष्परिणाम को समझने की कोशिश करें lउसका समय रहते विरोध करने की जरूरत हैl

सरकार एक तरफ चिकित्सकों में अच्छी गुणवत्ता, विशेषज्ञता की बात कहती है और दूसरी तरफ ठीक विपरीत मिक्स पैथी को बढ़ावा देती है l यह बिल्कुल अव्यावहारिक, अनैतिक है जिसे अविलंब वापस लेने की जरूरत हैl