चितरपुर प्रखंड क्षेत्र के कई खेतों में लगी धान की फसलों में बीमारी लगने से फसलें हुए नष्ट, किसानों में छाई उदासी

चितरपुर प्रखंड क्षेत्र के कई खेतों में लगी धान की फसल में बीमारी लगने के कारण फसलें बर्बाद हो रही है। जिस कारण प्रखंड क्षेत्र के किसानों में काफी मायूसी छा गई है।

चितरपुर प्रखंड के मायल, भुचूंगडीह, सुकरीगढ़ा, मुरूबंदा सहित अन्य जगहों के खेतों में पूर्व में धान की फसल काफी अच्छी हुई। जिससे किसानों के चेहरे में खुशी की झलक देखी जा रही थी। लेकिन जैसे-जैसे धान पकने लगे, वैसे-वैसे अधिकांश खेतों में सैकड़ों एकड़ में लगे धान की फसलों में बीमारी लगने के कारण फसलें मुरझाकर बर्बाद होने लगी है। इससे किसानों में मायूसी छा गई है।

इस संबंध में किसान नकुल महतो ने कहा कि धान की फसलों में बीमारी लगने के कारण फसल पूरी तरह से बर्बाद हो रही है, जिससे हमलोगों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ेगा। वहीं चितरपुर के मायल निवासी एवं कृषक मित्र के जिलाध्यक्ष सतीश कुमार ने कहा कि धान की फसलों में बीमारी लगने से किसानों को काफी क्षति हुई है।

इसपर सरकार द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है और राज्य सरकार द्वारा फसल बीमा योजना को भी बंद कर दिया गया है। इससे किसानों के समक्ष बड़ा संकट उत्पन्न हो गया है।

Whats App