Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

Rajrappa माँ छिन्नमस्तिका मन्दिर में नवरात्र के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की पूजा की गयी

नवरात्र में जाप व पाठ लिये दूर दूर से आये भक्तजन व साधक अपनी साधना में हुए लीन

रजरप्पा : देश के प्रसिद्ध सिद्धपीठ रजरप्पा माँ छिन्नमस्तिका मंदिर में नवरात्र में जाप व पाठ लिये दूर दूर से आये भक्तजन व साधक अपनी साधना में हुए लीन। नवरात्र में पहली बार मंदिर में बगैर साज सजावट के सादगीपूर्ण माँ की हो रही है पूजा अर्चना। भक्तजनों की सुविधा के लिये मंदिर परिसर में जगह जगह हर ओर पुलिस है तैनात।

रजरप्पा मंदिर में कोविंड 19 का गाइडलाइन पालन करते हुए श्रद्धालुगण पूजा अर्चना कर रहे है ।
गौरतलब है कि देश के प्रसिद्ध सिद्धपीठ रजरप्पा स्थित माँ छिन्नमस्तिका मन्दिर में नवरात्र के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की पूजा की गई। वहीँ मंदिर प्रक्षेत्र के विभिन्न हवन कुण्डों में भक्त माँ की आराधना में लीन दिखे। कोविड 19 को देखते हुये नियमों का भी ख़ास ख्याल रखा जा रहा है।
शारदीय नवरात्र के प्रथम दिन आज रजरप्पा स्थित माँ छिन्नमस्तिका मंदिर में माँ शैलपुत्री की पूजा अर्चना की गई। सिद्धपीठ होने की वजह से यहाँ माँ के भक्त प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी मंदिर प्रक्षेत्र के विभिन्न हवन कुण्डों में माँ की आराधना में लीन दिखे। भक्तों के दुर्गासप्तशती पाठ से पूरा मंदिर प्रक्षेत्र गूँजमान हो रहा है।
वहीँ इस संबंध में रजरप्पा मंदिर के वरिष्ठ पुजारी अजय पंडा ने कहा कि आज नवरात्र के प्रथम दिन माँ शैलपुत्री की पूजा की जायेगी। कलश स्थापना के बाद माँ को विशेष भोग लगाया जायेगा