Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

Ramgarh निजी विद्यालय संघ की आपात बैठक में भेदभाव पूर्ण आदेश वापस लेने की माँग हुई प्रबल

एक राज्य में नहीं चलेंगे दो नियम, जरूरत पड़ी तो जाएंगे न्यायालय : अध्यक्ष

रामगढ़ : अखिल झारखंड निजी विद्यालय संघ के तत्वधान में, रामगढ़ निजी विद्यालय संचालकों द्वारा आज एक आपात बैठक बुलाई गई। शिक्षा विभाग द्वारा रांची तथा रामगढ़ में आठवीं वर्ग की बोर्ड परीक्षा को लेकर बनाये गए अलग – अलग नियम को लेकर जिले भर के निजी स्कूल प्रबंधन द्वारा एक आपात बैठक बुलाई गई जिसमें यह निर्णय लिया गया की अगर जरूरत पड़ी तो न्यायालय भी जाने को हमलोग बाध्य होंगे।

बैठक के माध्यम से निजी स्कूल के प्रबंधक ने सरकार एवं उपायुक्त से माँग किया कि कोरोना महामारी के विषम परिस्तिथि में भी विभागीय अधिकारियों ने जिले के 8वीं वर्ग के बच्चों के लिए अलग मानक तय करते हुए मान्यता लेने के लिए बाध्य किया जा रहा है। जो विद्यालय मान्यता नही लेंगे वहाँ के बच्चे परीक्षा से वंचित रह जाएंगे, इससे उनका भविष्य अंधकार मय हो जाएगा। इस क्रम में निजी स्कूल के प्रबंधकों ने बताया कि राँची जिले में पूर्व की भांति बच्चों को बगैर किसी शर्त के परीक्षा में शामिल किया जा रहा है। इन्होंने माँग किया कि बच्चों के भविष्य को देखते हुए सभी (VDISE) प्राप्त विद्यालयों को बगैर शर्त मान्यता देते हुए आठवीं के बच्चों को परीक्षा में शामिल होने का निर्देश दिया जाय। बैठक में पतरातू, रामगढ़, चितरपुर, दुलमी, मांडू, गोला प्रखंड के निजी विद्यालय संघ के करीब 150 स्कूल से भी ज्यादा के पदाधिकारी मौजूद थे। मौके पर अखिल झारखंड निजी विद्यालय संघ के अध्यक्ष ने बताया कि अगर जरूरत पड़ी तो हम न्यायालय जाने को बाध्य होंगे l
मौके पर संघ के सचिव ने कहा कि एक राज्य के अलग-अलग जिले में अलग-अलग नियम कानून नहीं चलेंगे l