Logo
ब्रेकिंग
Bjp प्रत्याशी ढुल्लु महतो के समर्थन में विधायक सरयू राय के विरुद्ध गोलबंद हूआ झारखंड वैश्य समाज l हजारीबाग लोकसभा इंडिया प्रत्याशी जेपी पटेल ने किया मां छिनमस्तिका की पूजा अर्चना l गांजा तस्कर के साथ मोटासाइकिल चोर को रामगढ़ पुलिस ने किया गिरफ्तार स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार

Rajrappa. सात महीने बाद श्रद्धालुओं के लिए खुला रजरप्पा स्थित मां छिन्नमस्तिके का दरबार

सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन और सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए श्रद्धालु कर रहे हैं मां छिन्नमस्तिके का दर्शन

रजरप्पा : कोरोना संक्रमण के कारण पिछले सात महीने से बंद पड़ा झारखंड राज्य के रजरप्पा स्थित देश का प्रसिद्ध सिद्धपीठ मां छिन्नमस्तिका मंदिर गुरुवार से आम श्रद्धालुओं के लिए सरकार के आदेश के बाद जिला प्रशासन की देखरेख में खोल दिया गया है।

मंदिर खुलने की खुशी में अहले सुबह से ही श्रद्धालु मां छिन्नमस्तिका के दर्शन और पूजा-अर्चना करने को लेकर काफी उत्साहित दिखे। जिला प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन के तहत मंदिर न्यास समिति द्वारा यहां कोरोना संक्रमण को देखते हुए व्यापक प्रबंध किए गए हैं। पूजा-अर्चना करने के लिए श्रद्धालु मास्क पहनकर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मंदिर प्रांगण पहुंचे। मंदिर में प्रवेश से पूर्व सबसे पहले श्रद्धालुओं के हाथों को सैनिटाइज कराया गया। इसके बाद थर्मल स्कैनिंग मशीन से श्रद्धालुओं के तापमान की जांच करने के बाद दो-दो श्रद्धालु को ही मंदिर में प्रवेश कराया जा रहा है। इधर, कोरोना संक्रमण को लेकर जारी गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराने को लेकर सुरक्षाबलों की भी तैनाती की गई है। जो श्रद्धालु बिना मास्क पहने आ रहे हैं, उन्हें 1 किलोमीटर पूर्व किए गए बैरिकेडिंग स्थल से ही वापस लौटाया जा रहा है। इस संबंध में मंदिर के वरिष्ठ पुजारी अजय पंडा ने कहा कि सरकार और जिला प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के तहत एक बार मे दो-दो श्रद्धालुओं को ही मंदिर में प्रवेश कराया जा रहा है। साथ ही कोरोना संक्रमण के रोकथाम को लेकर भी सारी तैयारियां की गई है।