कांग्रेसियों ने मोदी सरकार द्वारा संसद से पारित किये गये कानून को काला कानून बताते हुए किया विरोध

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने रामगढ़ में किया प्रेस वार्ता

रामगढ़ : झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ0 रामेश्वर उरांव ने केन्द्र के मोदी सरकार द्वारा संसद से पारित किये गये कानून को काला कानून व किसान विरोधी बताते हुए इसका विरोध करने का निर्णय लिया है।

इसी के तहत विरोध की रणनीति बनाने रामगढ़ पहुंचे कांग्रेस के झारखंड प्रदेश प्रवक्ता राजेश कुमार ने
केंद्र सरकार द्वारा पारित कानून का विरोध करने की बात करते हुए पत्रकारों को कहा कि मोदी सरकार ने तीन काले कानून कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य कानून, कृषि कीमत आवश्वासन कानून, कृषि सेवा पर करार कानून के माध्यम से किसान, खेत-मजदूर, छोटे दुकानदार, मंडी मजदूर व कर्मचारियों की आजीविका पर एक क्रूर हमला बोला है। यह किसान, खेत और खलिहान के खिलाफ एक घिनौना षडयंत्र है। भाजपा सरकार तीन काले कानूनों के माध्यम से देश की ‘हरित क्रांति’ को हराने की साजिश कर रही है। देश के अन्नदाता व भाग्यविधाता किसान तथा खेत मजदूर की मेहनत को चंद
पूंजीपतियों के हाथों गिरवी रखने का षडयंत्र किया जा रहा है साथ ही उन्होंने कहा कि आज देश भर में 62 करोड़ किसान-मजदूर व 250 से अधिक किसान संगठन इन काले कानूनों के खिलाफ
आवाज उठा रहे हैं, पर प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी व उनकी सरकार सब ऐतराज दरकिनार कर देश को
बरगला रहे हैं। अन्नदाता किसान की बात सुनना तो दूर, संसद में उनके नुमाईदो की आवाज को दबाया
जा रहा है और सड़कों पर किसान मजदूरों को लाठियों से पिटवाया जा रहा है। जिसका हमारी पार्टी पुरजोर विरोध करती है और अगर यह कानून वापस नहीं लिया गया तो हम सड़क से सदन तक उग्र आंदोलन करेंगे

Whats App