Patratu आदिवासी मूलवासी अपनी जमीन को बचाने के लिए बना रहे हैं रणनीति

हम जान देंगे पर अपनी जमीन नही के नारो के साथ आदिवासी मूलवासी ने किया विरोध व्यक्त

पतरातू : हम जान देंगे पर अपनी जमीन नहीं इन्ही नारो के साथ पतरातू के रैयत और आदिवासी मूलवासी अपनी जमीन को बचाने के लिए रणनीति बनाते नजर आ रहे हैं । जिसके तहत इनके द्वारा विगत कुछ दिनों पूर्व से ही विभिन्न स्थलों पर बैठक कर अपने जमीन को बचाने के लिए योजनाएं बनाई जा रही इसी के तहत बीते कुछ दिन पहले इन लोगों के द्वारा विरोध प्रदर्शन करते हुए अपनी जमीन को किसी भी हाल में नहीं देने की बात कही गई थी। उस दौरान इन्होंने छाई डैम जमीन बचाओ संघर्ष समिति, पतरातू आदिवासी मूलवासी के बैनर तले सरकार और उद्योगपतियों के खिलाफ प्रदर्शन भी किया था । आप देखिए इनके बैठक और प्रदर्शन की वीडियो ।

आपने देखा किस प्रकार से यह लोग अपने जमीन को बचाने के लिए एकजुट होकर प्रदर्शन करते नजर आए उसी के तहत आज
छाई डैम जमीन बचाओ संघर्ष समिति, पतरातू आदिवासी मूलवासी के बैनर तले हरदा गांव के देवी मंडप प्रांगण में पूर्व जिला पार्षद झरी मुंडा की अध्यक्षता में बैठक किया गया । जिसका संचालन सतीश करमाली ने किया। इस बैठक में गांव भड़कोदरा, जयनगर, रासदा, जगदा के दर्जनों रैयत व आदिवासी मूलवासी शामिल हुए । जिन्होंने निर्णय लिया कि हम लोग किसी भी सूरते हाल में अपनी जमीन को उद्योगपतियों के हाथ में नहीं जाने देंगे उन्होंने कहा इसके लिए उन्हें किसी भी हद पर जाकर आंदोलन करनी पड़े तो वह करेंगे मगर अपनी जमीन का 1 इंच भी किसी को नहीं लेने देंगे

 

Whats App