Ramgarh नगर परिषद के सफाई कर्मियों का हड़ताल पांचवें दिन भी जारी

न्यूनतम मजदूरी, सुरक्षा बीमा एवं प्रोत्साहन राशि की कर रहे है मांग

yamaha

रामगढ़: न्यूनतम मजदूरी, सुरक्षा बीमा एवं प्रोत्साहन राशि की मांग को लेकर नगर परिषद के खिलाफ सफाई कर्मियों का विरोध और भी तूल पकड़ता जा रहा है बीते 8 सितंबर से अपनी 3 सूत्री मांगों को लेकर धरने पर बैठे सफाई कर्मि नगर परिषद के अधिकारियों पर तानाशाही रवैया का आरोप लगाते हुए अपना प्रदर्शन जारी रखे हुए हैं।

रामगढ़ नगर परिषद क्षेत्र के कुल 32 वार्ड में डेढ़ सौ से ज्यादा सफाई कर्मियों के इस हड़ताल से क्षेत्र की करीब एक लाख आबादी प्रभावित हो चुकी है क्षेत्र में पूरी तरह से सफाई व्यवस्था ठप है। जबकि कोरोना संक्रमण का खतरा पूरे देश पर मंडरा रहा है और लोगों को स्वच्छता से ही कोरोना से बचाव का पाठ पढ़ाया जा रहा है । वैसे में इन कोरोना वॉरियर्स का इस प्रकार से विरोध करना। कितना खतरनाक साबित हो सकता है आप सब इसका सहज अनुमान लगा सकते हैं।

अब जब अपने मांगों को लेकर धरने पर यह लगातार अधिक है तो इसी बीच इनके आंदोलन को और भी मजबूती प्रदान करने के लिए भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष नगर परिषद के अध्यक्ष योगेश बेदिया, उपाध्यक्ष मनोज महतो, रामगढ़ बचाओ संघर्ष समिति के केंद्रीय अध्यक्ष धनंजय कुमार पुटुस सहित कई ने इन कोरोना योद्धाओं को अपना अपना समर्थन दिया और कहा कि रामगढ़ नगर परिषद में काम करने वाले सफाई कर्मियों को न्यूनतम मजदूरी नहीं दिया जा रहा है, ना ही सुरक्षा बीमा किया जा रहा है।

साथ ही साथ कोरोना काल मे अपनी जान खतरे में डाल कर सेवा देने पर तीन महीनो तक अलग से दो हज़ार प्रोत्साहन राशि देने का वादा करने के बावजूद इन्हें प्रोत्साहन राशि भी नहीं दी जा रही है।

जिसके विरोध में रामगढ़ नगर परिषद के सफाई कर्मी 5 दिनों से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। साथ ही उनलोगों ने कहा कि इन गरीब सफाई कर्मियों की मांग जायज है, इसी लिए हमने इन्हें अपना समर्थन दिया है। उन लोगों ने कहा की नगर परिषद के 32 वार्डो में गंदगी का अंबार लग गया है। इससे नगर परिषद के सभी 32 वार्डो में रहने वाले आम नागरिकों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने नगर परिषद के पदाधिकारी से उनकी मांग को पूरा करने की अपील की है जिससे आम जनता की समस्याओं का समाधान हो सके ।

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.