Logo
ब्रेकिंग
आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न । रामगढ़ एसपी ने पांच पुलिस निरीक्षकों को किया पदस्थापित रामगढ़ में एक डीलर और 11 अवैध राशन कार्डधारियों को नोटिस जारी

अभिनेता सुुशांत के मौत की सीबीआई जांच के लिए क्षत्रिय युवा मंच नेे निकाला कैंडल मार्च

सुशांत सिंह राजपूत को न्याय मिलने तक हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा : धीरज सिंह

रामगढ़ : बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने 34 साल की उम्र में 14 जून को मुंबई स्थित अपने आवास में फांसी लगाकर जान दे दिया था। सुशांत बॉलीवुड के बेहद लोकप्रिय एक्टर थे। सुुशांत की संदिग्ध मौत पर रामगढ़ क्षत्रिय युवा मंच नेे शहर में कैंडल मार्च निकाला। जो कि शहर का भ्रमण कर सुभाष चौक पर पहुच कर एक शोक सभा में तब्दील हो गया । कैंडल मार्च का नेतृत्व कर रहे मंच के अध्यक्ष धीरज सिंह ने कहा कि बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत की निष्पक्ष जांच की मांग हम सरकार से करते हैं। जब तक हमें न्याय नहीं मिलेगा तब तक यह प्रदर्शन जारी रहेगा। साथ ही कहा कि आज पूरे देश मे बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत के विरोध में विभिन्न क्षत्रिय सभाओं द्वारा विरोध प्रदर्शन जारी है, इसी के तहत यह कार्यक्रम रामगढ़ में आयोजित किया गया है।

बॉलीवुड के कथित फिल्मी माफियाओं द्वारा वर्षो से आर्थिक, मानसिक एव शारीरिक शोषण हो रहा है
कैंडल मार्च में शामिल अन्य वक्ताओं में सरोज सिंह, बिनय कुमार सिंह, मिथिलेश कुमार सिंह ने अपना वक्तब्य देते हुए कहा कि बॉलीवुड के कथित फिल्मी माफियाओं द्वारा नवोदित फ़िल्मनिर्माता, निर्देशक, कलाकारों, संगीतकारों एव गायक, गीतकारों के साथ वर्षो से आर्थिक, मानसिक एव शारीरिक शोषण हो रहा है, बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत उसी कड़ी का एक हिस्सा है, जिसकी सीबीआई जांच होना अति आवश्यक है।

कैंडल मार्च में मंच में विधानचंद्र सिंह, अरविंद कुमार सिंह, पुरषोत्तम सिंह, मिथिलेश सिंह, शेखर सिंह, बिनोद कुमार सिंह, इंदुशेखर सिंह, अखिलेश सिंह, वी पी सिंह, इंद्रजीत सिंह, प्रदीप कुमार, धर्मेंद्र, हिटलर, सुरेंद्र कुमार आदि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शामिल थे।