Mandu एम.ए कर युवक ने खेती को बनाया कैरियर, अच्छी उपज से लाखों रुपए का मुनाफा कमा रहा है

सरकार नागेश्वर को उन्नत खेती के तरीके को सीखने लिए इजराइल भेज रही है

yamaha

मांडू: एम.ए की पढाई पूरी कर खेती को बनाया अपना कॅरियर | ढाई से तीन क्विंटल रोजाना निकल रही है हरी सब्जियां | लोकडाउन की वजह से इजराइल जाने की मंशा पर फिरा पानी |आज के आधुनिक युग में युवा पीढ़ी पढ़ लिख कर आईएस,आईपीएस,इंजीनयर,डॉक्टर बनने की दौड़ में लगे हुए है वहीं दूसरी और मांडू प्रखंड के करमा पंचायत स्थित बरमसिया गावं का नागेश्वर महतो रांची कॉलेज से एम.ए की पढाई पूरी कर खेती को अपना कॅरियर बना कर युवा पीढ़ी में एक अलग पहचान बना लिया है |

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी किसानो के प्रति काफी चिंतित है | उनके द्वारा खेती के क्षेत्र में बढ़ावा देने को लेकर समय समय पर किसानो को प्रशिक्षण दिलाने के लिए दूसरे देशों में प्रशिक्षण के लिए राज्य सरकार को निर्देश दे रखा है | नागेश्वर को भी खेती के प्रशिक्षण के लिए मार्च महीने में इजराइल जाना था l लेकिन कोरोना महामारी की वजह से लगे लोकडाउन के कारण नही जा सका।

आज नागेश्वर महतो आठ एकड़ बंजर जमीन लीज में लेकर कड़ी मेहनत से उसमे खीरा,मिर्च, करेला, टमाटर, बेंगन जैसे कई हरी सब्जियां ऊगा कर रोजाना ढाई से तीन क्विंटल बाजार में बेच कर हजारों रूपए मुनाफा कमा रहा है | उनका कहना है की वो रांची यूनिवर्सिटी से एम.ए की पढ़ाई करने के दौरान फिल्ड वर्क के लिए जाते थे और किसान से मिलते तो पूछते थे की बहुत बड़ा एरिया में खेती से आपलोग को क्या फायदा होता है। वो लोग कहते थे के ज्यादा बड़ा एरिया में खेती करने से मुनाफा ज्यादा होता है बस उसी शमय हमने मन में ठान लिया था के पढ़ाई पूरी करने के बाद मुझे कृषक बनना है और आज मैने आठ एकड़ जमीन लीज में लेकर टपक बिद्धि से खेती कर रहा हूँ |

नागेश्वर के काम से खुस होकर उसके परिवार वाले भी उसका सहयोग कर रहे है

वहीं दूसरी ओर नागेश्वर के इस काम से खुस होकर उसके परिवार वाले भी उसका सहयोग कर रहे है और खेत में उसके कदम से कदम मिला कर चल रहे है | उनके परिजनों से पूछने पर बताया की ये रांची यूनिवर्सिटी से एम.ए रूलर डेवलपमेंट की पढ़ाई कर के आया और हमलोग से चर्चा किया के टपक खेती करने से बहुत मुनाफा होगा | हमलोग सोंचे के ये किस तरह से खेती होगा हमलोग पहले कभी नहीं देखे थे | लीज में आठ एकड़ जमीन ले कर शुरुआत किया फिर खेती करना सुरु किया हमलोग आकर देखे तो काफी अच्छा लगा फिर हमलोग भी इसका सहयोग हर तरह से कर रहे है |

सरकार नागेश्वर को उन्नत खेती के तरीके को सीखने लिए इजराइल भेज रही है

वहीं इस संबंध में कृषि पदाधिकारी समीरण मजूमदार का कहना है के आज कल के युवा जो पढ़े लिखे है वो कृषि के क्षेत्र को बहुत गलत तरीके से देखते है, की ये देहाती काम है हमे इस तरफ जाना नहीं है | लेकिन हमारे प्रखंड के नागेश्वर महतो को ले लीजिये उनके खेती से खुस होकर सरकार इजराइल भेज रही है ताकि और भी उन्नत तरीके से खेती कर सके | इनके लगन और हौसले के कारन आज ये चार से पांच लाख का इनकम कर ले रहे | और पुरे क्षेत्र का नाम रोशन कर रहे है |

युवा वर्ग कृषि के क्षेत्र में कॅरियर ढूंढ सके, इसके लिए सरकार को जागरूकता अभियान चलाने की आवश्यकता

बहरहाल एक ओर जहां आज के युवा पीढ़ी इंजीनयर, डॉक्टर, आईएस, आईपीएस बनने की चाह में रात दिन एक कर रहे है तो वहीँ दूसरी तरफ नागेश्वर महतो ने कृषि के क्षेत्र में अपना कॅरियर बना कर आज राज्य व देश में अपना अलग पहचान बना लिया है | जरुरत है ऐसे में केंद्र व राज्य सरकार को आज के युवा पीढ़ी के लिए एक जागरूकता अभियान चलए, ताकि युवा वर्ग कृषि के क्षेत्र में भी अपना कॅरियर ढूंढ सके |

raja moter
Leave A Reply

Your email address will not be published.