Logo
ब्रेकिंग
माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव भंडारा के साथ संपन्न युवक ने प्रेमिका के लवर को उतारा मौत के घाट, वारदात को अंजाम देकर कुएं में फेंकी लाश । 1932 खतियान राज्यपाल ने किया वापस, झामुमो में आक्रोश, किया विरोध, फूंका प्रधानमंत्री का पुतला । रामगढ़ विधानसभा उपनिर्वाचन 2023 के मद्देनजर उपायुक्त ने की प्रेस वार्ता कराटे बेल्ट ग्रेडेशन टेस्ट सह प्रशिक्षण शिविर में 150 कराटेकार शामिल, उत्कृष्ट प्रदर्शनकारी को मिला ... श्रीराम सेना के विशाल हिंदू सम्मेलन में राष्ट्रवादी प्रखर प्रवक्ता पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ और अंतरराष्... भव्य कलश यात्रा के साथ माता वैष्णों देवी मंदिर का 32वां वार्षिकोत्सव शुरू रामगढ़ में मनाया गया 74 वां गणतंत्र दिवस, विभिन्न कार्यालयों द्वारा निकाली गई झांकी माँ की ममता से दूर जेल में बंद पूर्व विधायक मामता देवी का दूधमुहा बच्चा बीमारी की गिरफ्त में । माता वैष्णों देवी मंदिर के 32वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 26 को

Jamshedpur शहीद बहरागोडा के लाल गणेश हांसदा के अंतिम दर्शन को जन सैलाब उमड पडा

जमशेदपुर: वो गांव मेरा आबाद रहे जिस गांव को लौट न सका। जी हां बहरागोडा का लाल गणेश हांसदा जीवित तो नहीं लौटा मगर शहीद का पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटकर जब गांव आया तो सबने कहा–मौत मिले तो ऐसी।मौत हो तो देश के लिए क़ुर्बान होकर हो।भारत चीन सीमा पर शहीद हुए बहरागोडा के लाल गणेश हांसदा के अंतिम दर्शन को जन सैलाब उमड पडा।

बहरागोडा प्रखंड के चिंगडा पंचायत  के कासियाफला गांव में अपने लाल शहीद गणेश हांसदा के अंतिम दर्शन को हजारों लोग उमड़ पडे।भाई दिनेश हांसदा और परिजन गमगीन हैं।दुख तो है पर फक्र भी।फुटबाॅल का दीवाना गणेश हांसदा देश के लिए कुछ कर गुजरने की तमन्ना सालों से रखता था।अपनी सैलरी  का एक बडा हिस्सा गांव के लिए खर्च कर देता। 26 जनवरी में जब छुट्टी मैं आया था गणेश  हांसदा  तो पूरे गांव के बच्चों को खरीद कर झंडा दिया था और साथ ही साथ गांव में 26 जनवरी के दिन झंडा फहराया था इससे पता चलता है कि गणेश हाजरा को तिरंगा और अपने वतन से कितना प्यार था ।
लगभग सुबह दस दस में गांव के बाहर बने हैलिपैड में जब शहीद गणेश हांसदा का पार्थिव शरीर आया तो उसके दर्शन को जन सैलाब उमड पडा।हैलिपैड से शवयात्रा निकली जो गांव की दहलीज पर पहुंची। वहां एक छोटी सी श्रद्धांजली सभा आयोजित हुई उसके बाद पार्थिव शरीर को घर ले जाया गया।घर के भीतर कुछ रीति रिवाजों के पालन के बाद गांव के मैदान में शहीद का पार्थिव शरीर रखा गया।यहां परंपरागत तरीके से ग्रामीणों और परिजनों ने अंतिम विदाई दी और श्रद्धा सुमन अर्पित किए।उसके बाद घर के पीछे कुछ दूरी पर शहीद के पार्थिव शरीर को लाया गया।सेना के जवानों ने सलामी दी।सांसद  विद्युतवरण महतो, दिनेशानंद गोस्वामी, डीसी रविशंकर शुक्ला, एसएसपी तमिल वानन और अन्य ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।अंतत:पारंपरिक आदिवासी रीति रिवाज के साथ शहीद गणेश हांसदा का अंतिम संस्कार किया गया।इस तरह वे पंचतत्व में विलीन हो गए।

nanhe kadam hide