MP के मंदिरों में लौटी रौनक, दर्शन के लिए खुले कपाट, भक्तों को रखना होगा इन बातों का ध्यान

yamaha

ग्वालियर: मध्य प्रदेश में आज से भक्तों के लिए सारे धार्मिक स्थल खोल दिए गए हैं। 8 जून यानि आज तड़के से करीब 2-3 महीने बाद एक बार फिर से मंदिरों में भगवान के दर्शन किए जा सकेंगे। इससे पहले मंदिर परिसरों को सैनिटाइज कर साफ सफाई की गई। सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार, मंदिर में घंटी बजाने, फूल, नारियल, अगरबत्ती, चादर आदि चढ़ाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मंदिर परिसर में बिना थर्मल स्क्रीनिंग और आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड के प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। वहीं इंदौर का विश्वप्रसिद्ध खजराना मंदिर भी अभी नहीं खोला गया है।

श्री अचलेश्वर महादेव मंदिर
ग्वालियर के ऐतिहासिक श्री अचलेश्वर महादेव मंदिर भी करीूब 80 दिनों बाद आज से खोल दिया गया है। इससे पहले मंदिर में भक्तों के लिए विशेष व्यवस्था की गई है यहां सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए मंदिर परिसर में गोले बनाए गए हैं, वहीं श्रद्धालुओं से मास्क पहनकर ही मंदिर परिसर में आने की अपील की गई है इसके अलावा हैंड सैनिटाइजर अथवा साबुन से हाथ धोने की भी व्यवस्था की जा रही है। खास बात यह है कि गर्भवती महिलाओं बच्चों और 65 साल से ज्यादा उम्र वाले श्रद्धालुओं को प्रवेश की मनाही की गई है।

श्री जटाशंकर मंदिर
छतरपुर जिले के बिजावर अनुविभागीय अधिकारी डी.पी.द्विवेदी द्वारा अवगत कराया गया है कि केंद्र सरकार और राज्य शासन द्वारा जारी कि गई गाइडलाइन के अंतर्गत 8 जून से श्री जटाशंकर धाम खोलने का निर्णय लिया गया है। श्रद्धालुओं के स्वास्थ्य हित, श्रद्धा एवं लोक शांति बनाये रखने के उद्देश्य से श्रद्धालुओं, धार्मिक प्रतिष्ठानों एवं पूजा-स्थलों पर कार्यरत व्यक्तियों तथा आगंतुकों को आवश्यक सावधानियों का पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। जटाशंकर ट्रस्ट से ऑनलाइन बुकिंग कराकर अथवा टोकन प्राप्त करने के उपरान्त ही दर्शन करने के लिए प्रवेश दिया जायेगा। प्रवेश के समय बुकिंग का टिकट/मैसेज/टोकन और फोटोयुक्त परिचय-पत्र दिखाना अनिवार्य होगा। मंदिर परिसर मे श्रद्धालुओं में दो गज़ कि दूरी बनाये रखना, चेहरे को मॉस्क या फेस कवर से ढांकना अनिवार्य रहेगा। इसके साथ ही 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों, गर्भवती महिलाओं, 10 वर्ष से कम आयु के बच्चों एवं बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों को घर पर ही रहने की सलाह दी गई है। मंदिर में घंटी बजाने, फूल, नारियल, अगरबत्ती, चादर आदि चढ़ाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मंदिर परिसर में बिना थर्मल स्क्रीनिंग और आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड किये बिना प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

विजयासन देवी धाम
मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध देवी धामो में से एक विजयासन देवी धाम भी करीब 71 दिन बाद भक्तों के लिए खोले गया है। मंदिर प्रशासन की ओर से sdm बुदनी द्वारा गाइडलाइन जारी की गई है जिसमें मंदिर का समय प्रातः 9:00 बजे से शाम 5: 00 बजे तक रहेगा बिना मास्क हैंड ,सैनिटाइजर कर मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा। चार पहिया वाहन में चालक के अलावा 2 सवारियों को ही प्रवेश दिया जाएगा ।मंदिर में दर्शन हेतु आईडी कार्ड साथ लाना अनिवार्य होगा ।मंदिर हाल में दर्शन हेतु एक बार 10 लोगों को अंदर जाने की अनुमति रहेगी 6 फुट की दूरी सोशल डिस्टेंस बनाना रखना पड़ेगा। मंदिर प्रांगण में भंडारा करना मुंडन भजन कीर्तन प्रसाद चढ़ाना एवं तुला दान करना कार्यक्रम पूर्णत प्रतिबंध रहेगा। दर्शनार्थियों को अपने साथ प्रसाद नारियल फूल माला एवं अन्य पूजन सामग्री ले जाना पूर्णता वर्जित रहेगा ।मंदिर परिसर में कहीं भी थूकना भी वर्जित रहेगा।

बाबा महाकाल मंदिर
उज्जैन का बाबा महाकाल मंदिर भी भक्तों के लिए खोल दिया गया है। लेकिन यहां भक्तों को मंदिर में एंट्री से पहले कोविड-19 के खतरे को देखते हुए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का ध्यान रखना होगा।

भगवान पशुपतिनाथ मंदिर
कोरोना के चलते बंद हुआ मंदसौर के भगवान पशुपतिनाथ मंदिर भी आज से खोल दिया गया है। यहां सुबह से ही भक्तों का आना जाना, शुरु हो गया है। कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुसार भक्त सोशल डिस्टेंसिंग के साथ भगवान के दर्शन  मंदिर के बाहर शरीर का तापमान जांचने के बाद मिल रहा मंदिर में प्रवेश, मंदिर के पुजारी और भक्तों की भगवान से एक ही आस जल्द खत्म हो कोरोना का संकट।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.