ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भाजपा छोड़ने की खबरों को बताया ग़लत, जानिए- वायरल स्क्रीनशॉट का सच

yamaha

नई दिल्‍ली, जेएनएन। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उन खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है, जिनमें उनके भारतीय जनता पार्टी के छोड़ने का दावा किया जा रहा है। भाजपा नेता ने स्‍पष्‍ट किया है कि झूठी खबर तेजी से फैलती हैं और सोशल मीडिया पर वायरल हो रही खबरों में कोई सच्‍चाई नहीं है। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया के ट्विटर प्रोफाइल के एक स्क्रीनशॉट के आधार पर यह दावा किया गया कि वह भाजपा छोड़ने का मन बना रहे हैं।

वायरल पोस्‍ट में यह दावा किया जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के अपने ट्विटर प्रोफाइल से ‘बीजेपी नेता’ हटा लिया है। हालांकि, सच्‍चाई यह है कि ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने कभी अपने ट्विटर प्रोफाइल में बीजेपी नेता लिखा ही नहीं है। इतना ही नहीं, जब वह कांग्रेस पार्टी में थे, तब भी कभी ‘कांग्रेस नेता’ नहीं लिखा था। इस की तस्‍दीक ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया के एक प्रशंसक ने भी की है, जिन्‍होंने खुद रीट्वीट भी किया है।

ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया द्वारा रीट्वीट किए गए इस पोस्‍ट में लिखा है…

इसके बाद ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने भी एक ट्वीट कर सभी का भ्रम दूर करते हुए उनके भाजपा छोड़ने की खबरों पर विराम लगा दिया।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया इसी साल कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं। सिंधिया के साथ उनके 22 समर्थक विधायक भी इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए थे। इन विधायकों के इस्तीफे के बाद कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार गिर गई थी। कांग्रेस के इन 22 विधायकों के इस्तीफे से खाली हुईं सीटों समेत 24 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव होने हैं।

इस बीच ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया के भाजपा छोड़ने की खबर बेहद चौंकाने वाली थी, क्‍योंकि अगर वे भाजपा छोड़ते तो उनके समर्थक विधायक भी उनके साथ जाते और मध्‍यप्रदेश में फिर राजनीतिक संकट पैदा हो जाता। हालांकि, ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने अब खुद ही सभी खबरों पर विराम लगा दिया है।

raja moter

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.