Logo
ब्रेकिंग
हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण पल्स पोलियो अभियान का रामगढ़ उपायुक्त ने किया शुभारंभ MRP से ज्यादा में शराब बेचने वालों की खैर नहीं, उपायुक्त ने दिया जांच अभियान चलाने का निर्देश । हेमंत कैबिनेट का बड़ा फैसला- 1932 के खतियानधारी ही झारखंडी,OBC को 27 प्रतिशत आरक्षण, जानें अन्य फैसल...

नवनिर्मित वन स्टॉप सेंटर भवन का विधायक ममता देवी ने किया उद्घाटन

महिलाओं को सामाजिक एवं न्यायिक सुविधा प्रदान करना इस केंद्र का मुख्य उद्देश्य है

रामगढ़ : महिलाओं के विरूद्ध हिंसा के मामलों एवं उनकी आवश्यकताओं पर ध्यान देने के उद्देश्य से आज रामगढ़ में सखी वन स्टॉप सेंटर के भवन का उदघाटन किया गया । जिले की महिलाओं को सामाजिक एवं न्यायिक सुविधा प्रदान करना इस केंद्र का मुख्य उद्देश्य है। विधायक ममता देवी ने कहा कि इस केंद्र में महिलाओं को हर तरह की सुविधा देने के साथ ही उनके पांच दिनों तक रहने व खाने की व्यवस्था की जाएगी।

गौरतलब है कि रामगढ़ के कोठार क्षेत्र अंतर्गत जेल मोड़ के समीप नवनिर्मित वन स्टॉप सेंटर का उद्धघाटन विधायक ममता देवी ने विधिवत रूप से पूजा अर्चना व नारियल फोड़ने के उपरांत फीता काटकर किया।

हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को मिलेंगी सहायता : विधायक

विधायक ममता देवी ने कहा कि रामगढ़ जिले में सखी वन स्टॉप सेंटर का अपना भवन होना काफी गर्व की बात है। नवनिर्मित भवन के पूर्व वन स्टॉप सेंटर रामगढ़ के मुर्राम कला स्थित पंचायत भवन में चल रहा था। जिसके माध्यम से किसी भी प्रकार की हिंसा से पीड़ित महिलाओं को चिकित्सा, सुरक्षा, कानूनी सहित अन्य सुविधाएं मुहैया कराई जा रही थी। अब जब वन स्टॉप सेंटर का अपना भवन बन गया है। तो यह और भी प्रभावी होगा। सेंटर पर प्रतिनियुक्त अधिकारियों द्वारा यह प्रयास किया जाएगा कि हिंसा से पीड़ित महिलाओं को सभी तरह की आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पूर्व में वन स्टॉप सेंटर के माध्यम से लगभग 28 मामले सामने आए हैं जिन पर कार्य करते हुए 25 मामलों का निष्पादन कर दिया गया है एवं तीन का निष्पादन करने हेतु तीव्र गति से कार्य किया जा रहा है।
गौरतलब हो कि वन स्टॉप सेंटर अंतर्गत सभी प्रकार की हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एक ही स्थान पर अस्थाई आश्रय, पुलिस, विधिक सहायता,चिकित्सा एवं काउंसलिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है, इसका उद्देश्य एक ही छत के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से सहायता एवं सहयोग प्रदान करना है। पीड़ित महिला एवं बालिका को तत्काल आपातकालीन एवं गैर आपातकालीन सुविधाएं उपलब्ध कराना जैसे चिकित्सा, विधिक, मनोवैज्ञानिक परामर्श आदि भी इसमें शामिल है।