Logo
ब्रेकिंग
स्वीप" अंतर्गत वोटर अवेयरनेस को लेकर जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुआ मतदाता जागरूकता रैली का आयोजन... *हमारा लक्ष्य विकसित भारत और विकसित हज़ारीबाग: जयंत सिन्हा* आखिर कैसे हुई पुलिस हाजत में अनिकेत की मौ' त? नव विवाहित पति पत्नी का कुएं में मिला शव l Royal इंटरप्राइजेज के सौजन्य से Addo ब्रांड के टेक्निकल मास्टर क्लास का रामगढ़ में आयोजन | रामगढ़ में हजारीबाग डीआईजी की पुलिस टीम पर कोयला तस्करों का हमला l ACB के हत्थे चढ़ा SI मनीष कुमार, केस डायरी मैनेज करने के नाम पर मांगा 15 हजार माता वैष्णों देवी मंदिर के 33वें वार्षिकोत्सव पर भव्य कलश यात्रा 14 को रामगढ़। झारखंड के इन जिलों में 12 से होगी झमाझम बारिश, जानें मौसम का मिजाज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ श्री गुरु नानक पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव सम्पन्न ।

इस अनोखी शोकसभा के बारे में जान कर आप हो जाएंगे हैरान, राजनेता अब हो जाएं सावधान

खंडवा: आप किसी की मौत के बाद शोकसभा में कभी गए होंगे। लेकिन खंडवा में हुई इस शोकसभा का नजारा कुछ अलग हैं। अक्सर लोग किसी की मृत्यु के बाद शोकसभा का आयोजन कर दुःख व्यक्त करते हैं, पर यहां किसी इंसान के मरने के कारण नहीं बल्कि शहर के रिंगरोड और बायपास के नहीं बनने की वजह से शोक सभा का आयोजन रखा गया था। शोक सभा के बाद एक युवा ने अपना मुंडन भी कराया। बताते चले की इस शोक सभा से पहले खंडवा की आवाज़ संस्था ने राजनेताओं के किए गए वादों की अर्थी भी निकली थी।

खंडवा के नगरनिगम चौराहे पर सफदे कपड़ों में आई लव खंडवा के बोर्ड के नीचे बैठे यह लोग शोकसभा कर रहे हैं। इस शोकसभा में दो मिनिट का मौन भी रखा गया और पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि भी दी गई। यह शोकसभा किसी व्यक्ति के मरजाने पर नहीं हो रही हैं बल्कि यह उन वादों के मरने पर हो रहे हैं, जो खंडवा की जनता से यहां के जनप्रतिनिधियों ने किए थे। इतना ही नहीं यहां शोकसभा के बाद एक युवा ने मुंडन तक करा लिया। बता दें कि खंडवा की जनता से 25 साल पहले वादा किया गया था की शहर की यातायात व्यवस्था और बढ़ते सड़क हादसों को देखते हुए रिंग रोड और बायपास बनाया जाएगा। लेकिन इन 25 वर्षों में पांच बार सरकार बानी पर रिंगरोड और बायपास का वादा सिर्फ चुनावी जुमला ही बनकर रह गया। पिछले दिनों खंडवा में एक भयानक सड़क हादसे में हुई मौत के बाद खंडवा के लोग रिंगरोड और बायपास की मांग को लेकर एक बार फिर सड़क पर उतर आए। खंडवा की आवाज़ नाम की संस्था ने पहले तो रिंगरोड और बायपास के राजनैतिक वादे की अर्थी निकली अब इस संस्था का मानना है की जब किसी की मौत के बाद उसकी अर्थी निकल उसका क्रियाक्रम किया जाता है तो इन वादों की मौत के बाद हम भी यहां शोकसभा का आयोजन कर रहे हैं ताकि राजनेताओं को शर्म महसूस हो और वह अपना वादा निभाए।

खंडवा की आवाज़ संस्था ने जब यह शोकसभा रखी तो खंडवा के एक युवा ने नेताओं को नींद से जगाने के लिए अपना मुंडन तक करा लिया। मुंडन करने वाले दीपक उर्फ़ मुल्लू राठौर का कहना हैं कि खंडवा के जनप्रतिनिधियों को जाग्रत करने के लिए वह मुंडन करा रहे हैं। अगर फिर भी राजनेता नहीं जागे तो मरणोपरांत होने वाला तेरवी का आयोजन किया जाएगा।