Logo
ब्रेकिंग
रांची रामगढ़ फोरलेन पर चेटर में सड़क दुर्घटना, दो घायल रामगढ़ के दो घरों में डकैती, परिवार को बंधक बनाकर लाखो की लूटपाट, CCTV में अपराधी हुए कैद । रजरप्पा मंदिर के पुजारी रंजीत पंडा का हृदय गति रुकने से नि-धन, शोक की लहर हाथी का दांत को वन विभाग के अधिकारी ने किया जप्त। नवरात्रि के उपलक्ष में भव्य डांडिया रास का 24 सितंबर को होगा आयोजन । हजारीबाग में 30 फीट गहरी नदी में पलटी बस 07 लोगों की हुई मौत, गैस कटर से काटकर शव को निकाला गया। दो नाबालिग लड़की के दुष्कर्म मामले में फरार दोनो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांतनु मिश्रा राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनीत मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे नवनियुक्त जिला परिषद अध्यक्षों ने मुलाक... प्रखंड सह अंचल कार्यालय, रामगढ़ का उपायुक्त ने किया निरीक्षण

गणतंत्र दिवस पर 7 कैदियों की रिहाई, फूल माला पहनाकर किया विदा

होशंगाबाद: गणतंत्र दिवस के मौके पर शासन की माफी के तहत मंगलवार को होशंगाबाद जिला जेल में आजीवन सजा काट रहे से सात बंदियो की रिहाई की गई। रिहा होने वाले कैदी जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे और 14-15 साल जेल में बिताने के बाद प्रशासन ने गणतंत्र दिवस के अवसर  इनके आचरण को देखते हुए इन्हें शासन की माफी के तहत रिहा किया गया। सभी रिहा कैदियों को फूल माला पहनाकर रिहा किया गया वहीं परिजन भी उन्हें धूमधाम से घर ले गए।

कैदियों की रिहाई की खबर से उनके परिजन एवं इष्ट मित्रगण काफी संख्या में सुबह से ही जिला जेल के बाहर एकत्रित थे। रिहा किये गये बंदियो को फूल माला पहनाकर रिहा किया गया। इस दौरान आधा सैकड़ें के करीब लोग इन्हे चार पहिया वाहनों से लेने आये थे। लगभग एक दर्जन से ज्यादा चार पहिया वाहन भी जिला जेल के बाहर मौजूद थे। इस संबंध में होशंगाबाद जिले की जेल अधीक्षक  ऊषा राज ने बताया कि ये रिहाई शासन की माफी पाकर होती है।

जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदियों की रिहाई के लिए एक कमेटी होती है। जो बंदियो का आचरण और उनके चाल चलन व्यवहार को देखते हुए शासन से अनुशंसा करती है। शासन की गाइड लाइन का पालन करते हुए ही ऐसे बंदियो की रिहाई की जाती है।

गणतंत्र दिवस पर होशंगाबाद जिला जेल से ऐसे ही सात बंदियो की रिहाई की गई है जो इस क्राईट एरिया मे आते थे। इनमें से तीन बंदी बैतूल जिले के रहने वाले है। चार अन्य स्थानो के रहने वाले हैं। ये आजीवन कारावास की सजा से दंडित थे। गौरतलब रहे कि इन बंदियो को आजीवन कारावास की सजा होने के बाद 14 से 15 साल जेल मे बिताने के बाद रिहा किया गया।

जेल से कैदियों की रिहाई होते ही बाहर आते ही  परिजन और  मित्र खुश नजर आये और रिहा हुए कैदियों का फूल मालाओं से स्वागत किया। सात बंदियो मे से  बैतूल निवासी रामप्रसाद राठौर और उनका पुत्र डैनी राठौर और एक साथी हरीश यादव भी रिहा किये गये। लंबी सजा काट चुके रामप्रसाद राठौर ने बताया कि वे काफी खुश है और वर्षो के बाद वे और उनका पुत्र अपने परिजनो से मिलेंगे।