Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

गणतंत्र दिवस पर 7 कैदियों की रिहाई, फूल माला पहनाकर किया विदा

होशंगाबाद: गणतंत्र दिवस के मौके पर शासन की माफी के तहत मंगलवार को होशंगाबाद जिला जेल में आजीवन सजा काट रहे से सात बंदियो की रिहाई की गई। रिहा होने वाले कैदी जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे और 14-15 साल जेल में बिताने के बाद प्रशासन ने गणतंत्र दिवस के अवसर  इनके आचरण को देखते हुए इन्हें शासन की माफी के तहत रिहा किया गया। सभी रिहा कैदियों को फूल माला पहनाकर रिहा किया गया वहीं परिजन भी उन्हें धूमधाम से घर ले गए।

कैदियों की रिहाई की खबर से उनके परिजन एवं इष्ट मित्रगण काफी संख्या में सुबह से ही जिला जेल के बाहर एकत्रित थे। रिहा किये गये बंदियो को फूल माला पहनाकर रिहा किया गया। इस दौरान आधा सैकड़ें के करीब लोग इन्हे चार पहिया वाहनों से लेने आये थे। लगभग एक दर्जन से ज्यादा चार पहिया वाहन भी जिला जेल के बाहर मौजूद थे। इस संबंध में होशंगाबाद जिले की जेल अधीक्षक  ऊषा राज ने बताया कि ये रिहाई शासन की माफी पाकर होती है।

जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदियों की रिहाई के लिए एक कमेटी होती है। जो बंदियो का आचरण और उनके चाल चलन व्यवहार को देखते हुए शासन से अनुशंसा करती है। शासन की गाइड लाइन का पालन करते हुए ही ऐसे बंदियो की रिहाई की जाती है।

गणतंत्र दिवस पर होशंगाबाद जिला जेल से ऐसे ही सात बंदियो की रिहाई की गई है जो इस क्राईट एरिया मे आते थे। इनमें से तीन बंदी बैतूल जिले के रहने वाले है। चार अन्य स्थानो के रहने वाले हैं। ये आजीवन कारावास की सजा से दंडित थे। गौरतलब रहे कि इन बंदियो को आजीवन कारावास की सजा होने के बाद 14 से 15 साल जेल मे बिताने के बाद रिहा किया गया।

जेल से कैदियों की रिहाई होते ही बाहर आते ही  परिजन और  मित्र खुश नजर आये और रिहा हुए कैदियों का फूल मालाओं से स्वागत किया। सात बंदियो मे से  बैतूल निवासी रामप्रसाद राठौर और उनका पुत्र डैनी राठौर और एक साथी हरीश यादव भी रिहा किये गये। लंबी सजा काट चुके रामप्रसाद राठौर ने बताया कि वे काफी खुश है और वर्षो के बाद वे और उनका पुत्र अपने परिजनो से मिलेंगे।