Logo
ब्रेकिंग
मॉबली*चिंग के खिलाफ भाकपा-माले ने निकाला विरोध मार्च,किया प्रदर्शन छावनी को किसान सब्जी विक्रेताओं को अस्थाई शिफ्ट करवाना पड़ा भारी,हूआ विरोध व गाली- गलौज सूक्ष्म से मध्यम उद्योगों का विकास हीं देश के विकास का उन्नत मार्ग है बाल गोपाल के नए प्रतिष्ठान का रामगढ़ सुभाषचौक गुरुद्वारा के सामने हुआ शुभारंभ I पोड़ा गेट पर गो*लीबारी में दो गिर*फ्तार, पि*स्टल बरामद Ajsu ने सब्जी विक्रेताओं से ठेकेदार द्वारा मासूल वसूले जाने का किया विरोध l सेनेटरी एवं मोटर आइटम्स के शोरूम दीपक एजेंसी का हूआ शुभारंभ घर का खिड़की तोड़ लाखों रुपए के जेवरात कि चोरी l Ajsu ने किया चोरों के गिरफ्तारी की मांग I 21 जुलाई को रामगढ़ में होगा वैश्य समाज के नवनिर्वाचित सांसद और जनप्रतिनिधियों का अभिनंदन l उपायुक्त ने कि नगर एवं छावनी परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा।

दुबई में एक करोड़ सालाना का पैकेज छोड़ अब 14 जनवरी को दीक्षा लेकर जैन संत बनेंगे गुजरात के हितेश

ग्वालियर/शिवपुरी। गुजरात के रहने वाले हितेश भाई खोना दुबई सहित कई देशों में करोडा़ें के पैकेज पर नौकरी करने के बाद अब जैन संत बनने जा रहे हैं। 14 जनवरी को मध्य प्रदेश के ग्वालियर अंचल स्थित शिवपुरी में होने वाले महामांगलिक के दौरान संत नवरत्न सागर उनके दीक्षा लेने का मुहूर्त तय करेंगे। दीक्षा के लिए शिवपुरी पहुंचे हितेश ने बताया कि वे दुबई में फिलॉसफी पढ़ाते थे। जिस घर में रहते थे, उसका सालाना किराया 40 लाख रुपये था। कंपनी उन पर एक करोड़ रुपये प्रतिवर्ष से ज्यादा खर्च करती थी, लेकिन इस सबमें जीवन का असल सुख नहीं था।

मन सदैव वैराग्य की ओर झुकता रहा

12वीं कक्षा के दौरान समरादित्य महाकथा का अध्ययन किया था, जो हमें क्रोध के बारे में सिखाती है। इसके साथ ही कई ग्रंथ पढ़े। सभी में अंत में एक सुखद अंत होता था कि किसी ने संत बनने की दीक्षा ली और असली सुख को प्राप्त किया। मेरा भी यही लक्ष्य था, लेकिन तब कुछ पारिवारिक जिम्मेदारियां थीं। मन सदैव वैराग्य की ओर झुकता रहा। अत: अब दीक्षा लेने का निर्णय लिया है।

सात भाषाओं का ज्ञान, कई देशों में की नौकरी 

हितेश भाई खोनी मूलत मेहसाणा गुजरात के रहने वाले हैं। उन्होंने बीकॉम के साथ मुंबई विश्वविद्यालय से फिलॉसफी में भी डिग्री हासिल की है। उन्होंने यूएई, ओमान, कतर, ऑस्ट्रेलिया आदि देशों में अपनी सेवाएं दी हैं। वे सात भाषाओं हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, बंगाली, संस्कृत, प्राकृत और गुजराती के जानकार हैं।

दुबई में लोगों के पास अथाह सोना है, लेकिन कोई शारीरिक तो कोई मानसिक रूप से परेशान

उनका कहना है कि दुबई में लोगों के पास अथाह सोना है, लेकिन कोई शारीरिक तो कोई मानसिक रूप से परेशान है। वे वास्तविक सुख के लिए भारतीय परंपराओं की ओर देखते हैं। हमें भी भारत की आर्य संस्कृति की जड़ों की ओर लौटने की जरूरत है। करीब 10 साल पहले हितेश संतश्री नवरत्न सागर के संपर्क में आए। दो साल पहले उन्होंने संत बनने की दीक्षा लेने की इच्छा जाहिर की थी। इसके बाद संतश्री ने उनका मार्गदर्शन किया।